Loading...

दीपावली शॉपिंग के शुभ मुहूर्त | DIWALI SHOPPING MUHURAT

दीपावली पर खरीदारी तो सभी करते हैं परंतु यदि आप शुभ मूहूर्त में शॉपिंग कर लें तो वह वस्तु जो आप क्रय करके ला रहे हैं, आपके लिए अगले 1 साल तक लकी यानी सौभाग्यशाली बन सकती है। 

दीपावली से पहले पुष्य नक्षत्र

उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा बताते हैं कि दीपावली के पहले पुष्य नक्षत्र में की गई हर तरह की खरीदारी अक्षय फल देती है। पुष्य नक्षत्र का स्वामी शनि है, जो लंबे समय तक रहने वाला ग्रह है, इसलिए इस नक्षत्र में की गई खरीदी लंबे समय तक साथ रहती है। 

ज्योतिषविद् अर्चना सरमंडल के अनुसार, "पुष्य नक्षत्र 21 अक्टूबर सोमवार शाम 5.33 से दूसरे दिन 22 अक्टूबर मंगलवार को शाम 4.40 तक है। इस नक्षत्र में गाड़ी, मकान, दुकान, सोना, बर्तन की खरीदारी शुभ रहेगी।"

सोम पुष्य पर सोना और भौम पुष्य पर भूमि खरीदी : 

ज्योतिषविद् अमर डिब्बावाला बताते हैं, "21 अक्टूबर को सोना, चांदी और अन्य कीमती चीजों की खरीदी की जाना चाहिए। 22 अक्टूबर को भूमि, मकान, धातु की खरीदी के लिए श्रेष्ठ समय है। मंगल जमीन, भवन की खरीदी के लिए भी शुभ माना जाता है। व्यापारी इस दिन बहीखाता, कलम, दवात और पंचांग आदि खरीदें।"  

26 अक्टूबर की दोपहर तक रहेगी धनतेरस

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस है। ज्योतिषाचार्य अर्चना सरमंडल बताती हैं कि 25 अक्टूबर शुक्रवार को त्रयोदशी सुबह 7.08 बजे शुरू होगी और 26 अक्टूबर शनिवार को दोपहर 3.47 बजे तक रहेगी। धनतेरस पर सर्वार्थ सिद्धि योग भी है, इसीलिए इस दिन खरीदी और पूजन का महत्व बढ़ गया है।

अंक ज्योतिष में भी 4 और 8 का योग लाभदायक

पुष्य नक्षत्र में चंद्रमा कर्क राशि में रहेगा, जो राशि क्रम में 4 नंबर पर है। चंद्रमा राशि स्वामी भी है। पुष्य 8वां नक्षत्र है। अंक ज्योतिष में 4 और 8 अंक का स्वामी शनि है। इसलिए पुष्य स्वामी शनि, अंक ज्योतिष से भी दिनांक के स्वामी रहेंगे। इस तरह यह सुखद संयोग लाभ दिलाने वाला होगा।

25 अक्टूबर को धनतेरस और सर्वार्थ सिद्धि

तारीख    योग     क्या खरीदें
15 अक्टूबर अमृत सिद्धि नया काम शुरू, निवेश प्लान
16 अक्टूबर सर्वार्थ सिद्धि सभी तरह की खरीदारी
17 अक्टूबर करवा चौथ सुहाग का सामान और आभूषण
18 अक्टूबर रोहिणी नक्षत्र  हीरा या हीरे से बने आभूषण
19 अक्टूबर रवि योग  इलेक्ट्रॉनिक सामान, वाहन।
20 अक्टूबर रवि योग,त्रिपुष्करयोग खाद्य सामग्री, सजावटी सामान।
21 अक्टूबर सोम पुष्य-सर्वार्थ सिद्धि चांदी, बर्तन की खरीदी
 22 अक्टूबर मंगल पुष्य, सर्वार्थ सिद्धि जमीन, मकान की खरीदी।
25 अक्टूबर धनतेरस- सर्वार्थ सिद्धि बर्तन, सभी तरह के सामान
 27 अक्टूबर दीपावली सोना-चांदी, सिक्के, लक्ष्मी प्रतिमा।
(तारीख और योग की जानकारी पंडित अमर डिब्बावाला के अनुसार)