Loading...

हनी ट्रैप गैंग ने चुनाव में टिकट दिलाने और कटाने का काम भी किया था | MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश के हाईप्रोफल हनी ट्रैप गैंग का 'चुनावी टिकट' कनेक्शन भी सामने आ रहा है.कई नेताओं को टिकट दिलाने के लिए गैंग ने लाखों रुपए ऐंठे। किसी का टिकट काटने के लिए हनी ट्रैप का शिकार बनाया। ऐसे कई मामले हैं, जो यह बताने के लिए काफी हैं कि किस तरह से नेताओं को टिकट दिलाने से लेकर उनका टिकट कटवाने तक की साज़िश रची गई थी।

news18 के पत्रकार श्री मनोज राठौर ने सूत्रों के हवाले से खुलासा किया है कि भोपाल से लेकर छतरपुर तक विधानसभा और लोकसभा चुनाव के टिकटों में इन 'हनी' का दख़ल था। मध्य प्रदेश के इस हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप केस में पुलिस ने इंदौर से दो और भोपाल से तीन महिलाओं को गिरफ्तार किया था। भोपाल से पकड़ी गई महिलाओं का कनेक्शन चुनाव में टिकट वितरण से भी था। जब विधानसभा और लोकसभा चुनाव में टिकट की मारामारी चल रही थी, उसी दौरान ये गैंग भी सक्रिय होकर अपना खेल कर रहा था। चंदला विधानसभा सीट, सागर विधानसभा सीट और भोपाल लोकसभा सीट के टिकट बंटवारे में गैंग की महिलाओं की दख़लंदाजी थी। राष्ट्रीय स्तर के नेताओं की करीबी होने की वजह से महिलाओं ने टिकट के एवज में लाखों रुपए कमाए।

चंदला विधानसभा सीट के लिए 50 लाख रुपए लिए थे

बताया जा रहा है हनी ट्रैप गैंग ने 2018 के विधानसभा चुनाव में चंदला विधानसभा सीट का टिकट दिलाने के लिए अनुसूचित मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी से 50 लाख रुपए ऐंठ लिए थे। गैंग की दो महिलाओं ने राष्ट्रीय स्तर के एक नेता से संपर्क भी किया था लेकिन इस सीट पर विवाद होने की वजह से टिकट नहीं मिला। हनीट्रैप में फंसे होने की वजह से पीड़ित पदाधिकारी ने 50 लाख रुपए वापस नहीं लिए।

सागर विधानसभा सीट: टिकट कटवाने के लिए वीडियो वायरल किया था

हनी ट्रैप गैंग की एक महिला ने सागर के एक बड़े नेता का टिकट कटवाने के लिए एमएमएस बनाया था। महिला के जाल में फंसे इस बड़े नेता ने मोटी रकम भी दी थी। हालांकि, बाद में इन्होंने महिला का ही एक वीडियो बनवाकर वायरल करा दिया। इसी वजह से सागर विधानसभा सीट विवादों में आ गई थी और इन नेताजी का टिकट कटते-कटते बचा था।

भोपाल लोकसभा टिकट: पहले 2 करोड़ लिए फिर दुबई घूमने गई

हनी ट्रैप के शिकार भोपाल के इस नेता ने दो करोड़ की राशि दी थी। लोकसभा टिकट फाइनल होने से पहले गैंग की महिला फिर नेताजी को ब्लैकमेल कर रही थी। इससे बचने के लिए नेताजी ने इस महिला को दुबई भेज दिया था। दुबई का पूरा खर्चा भी नेताजी ने उठाया था।चुनाव के बाद ही महिला दुबई से भोपाल लौटी थी।