Loading...

ATITHI SHIKSHAK और गैस्ट फेकल्टी का मुद्दा दिग्विजय सिंह ने उठाया

भोपाल। मध्य प्रदेश में नियमितीकरण का इंतजार कर रहे सरकारी स्कूलों के अतिथि शिक्षकों एवं सरकारी कॉलेजों के अतिथि विद्वानों का मामला दिग्विजय सिंह ने उठाया है। उन्होंने सीएम कमलनाथ को याद दिलाया है कि इन दोनों वर्गों को नियमित किया जाना है। बता दें कि कांग्रेस ने दोनों को नियमित करने का वचन दिया था और दिग्विजय सिंह ने इसकी गारंटी ली थी। 

दिग्विजय सिंह ने गुरुवार को कहा, 'शिक्षक दिवस पर सभी शिक्षकों को हार्दिक शुभकामनाएं। अतिथि शिक्षक व अतिथि विद्वान शिक्षकों को कांग्रेस वचन पत्र में किए गये वादों को हमें पूरा करना है. मुझे विश्वास है मुख्य मंत्री कमल नाथ कांग्रेस वचन पत्र में किया गया हर वचन पूरा करेंगे।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने सत्ता में आने से पहले दिए गए वचन पत्र में प्रदेश के अतिथि शिक्षकों को नियमित करने का वादा किया था। कांग्रेस ने कहा था कि सत्ता में आने के तीन महीने के भीतर अतिथि शिक्षकों को नियमित कर दिया जाएगा।

पूर्व में कांग्रेस कार्यालय में एक प्रेस कांफ्रेंस करके गुरुजियों की भांति अतिथि शिक्षकों को भी नियमित करने की घोषणा की थी, जिसकी गारंटी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने ली थी, और कहा था कि 90 दिनों के भीतर अतिथि शिक्षकों का नियमितिकरण किया जाएगा। कांग्रेस को प्रदेश की सत्ता में आए 8 महीने हो गए हैं, लेकिन यह वादा पूरा नहीं हो सका है।