Loading...

भारत का ऑटोमोबाइल सेक्टर बर्बाद: 21 साल के सबसे निचले स्तर पर

ऑटो सेक्टर को अगस्त महीने ने भी तगड़ा झटका दिया है। तमाम कोशिशों के बावजूद भी अगस्त में ऑटो सेक्टर की बिक्री घटी है। लगातार यह 10वां महीना था, जिसमें बिक्री के आंकड़े नीचे लुढ़के हैं।

1997-98 के बाद सबसे कम बिक्री दर्ज

दरअसल मांग में आई गिरावट की वजह से देश के वाहन उद्योग को पिछले 21 सालों में सबसे कम बिक्री का सामना करना पड़ रहा है और अगस्त में 1997-98 के बाद सबसे कम बिक्री दर्ज की गई है। घरेलू बाजार में अगस्त में वाहनों की बिक्री में 23.55 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। ऐसी गिरावट इससे पहले साल 2000 के दिसंबर में देखने को मिली, जब बिक्री में 21.81 फीसदी की गिरावट आई थी।

10 महीनों से बिक्री में गिरावट जारी

पिछले 10 महीनों से वाहन उद्योग की बिक्री में गिरावट जारी है, जिसका प्रमुख कारण जीएसटी की उच्च दरों के साथ तरलता का संकट है। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैनुफैक्चर्स (सियाम) द्वारा जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि अगस्त में वाहनों की बिक्री में 23.55 फीसदी की गिरावट आई और कुल 18,21,490 वाहनों की बिक्री हुई, जबकि पिछले साल इसी महीने में कुल 23,82,436 वाहनों की बिक्री हुई थी।

मारुति सुजुकी, टाटा, हुंडई और TVS जैसे ब्रांड नहीं बिक रहे

दरअसल मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स, हुंडई मोटर्स और TVS मोटर्स जैसी बड़ी ऑटो कंपनियों की सेल अगस्त में घटी है। वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम के मुताबिक अगस्त में यात्री वाहनों की बिक्री पिछले साल के अगस्त महीने की तुलना में 31.57 फीसदी घटकर 1,96,524 यूनिट रह गई। अगस्त 2018 में कुल 2,87,198 वाहनों की बिक्री हुई थी।