Loading...

उमंग सिंघार के भविष्य का फैसला 21 तक हो जाएगा | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और वन मंत्री उमंग सिंघार के बीच हुए विवाद का फैसला जल्द ही आ जाएगा। उम्मीद है यह 21 सितम्बर तक आ जाएगा। मामले की सुनवाई सोनिया गांधी के नजदीकी नेता एके एंटनी करेंगे। आरोपी मध्य प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार हैं। पीड़ित पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और वकील सीएम कमलनाथ। दलीलें पेश की जा चुकीं हैं अब केवल आरोपित पक्ष की सफाई पेश होना शेष है। समाचार लिखे जाने तक सिंघार को ना तो नोटिस जारी हुआ था और ना ही तलब किया गया है। 

सीएम कमलनाथ ने खुद जाकर मामला सबमिट किया है

अपने नाम का खुलासा न करने की शर्त पर कांग्रेस के एक नेता ने रविवार को बताया कि दिग्विजय और सिंघार के बीच चल रहे विवाद की पृष्ठभूमि में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात की। मुलाकात के बाद सिंघार का विषय एके एंटनी की अध्यक्षता वाली अनुशासन समिति को भेज दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि यह अनुशासन समिति अगले सप्ताह तक अपनी रिपोर्ट पार्टी आलाकमान को सौंपेगी।’’ 

एंटनी का फैसला तय करेगा, मप्र में पॉवर किसकी पॉकेट में होगी

जब उनसे सवाल किया गया कि क्या सार्वजनिक रूप से दिग्विजय के खिलाफ बयानबाजी करने के लिए सिंघार पर गाज गिर सकती है, तो इस पर कांग्रेस नेता ने कहा कि यह केरल के पूर्व मुख्यमंत्री एंटनी पर निर्भर है कि वह इस विवाद को कैसे लेते हैं और इस पर क्या निष्कर्ष निकालते हैं। लेकिन यह तय है कि एंटनी का फैसला यह तय करेगा कि मध्य प्रदेश में पॉवर किसकी पॉकेट में है। दिग्विजय सिंह या ज्योतिरादित्य सिंधिया। 

सिंघार ने ईंट का जवाब पत्थरबाजी से दिया था

सिंघार ने हाल ही में दिग्विजय पर ब्लैकमेलर, ट्रांसफर-पोस्टिंग करवाने और अवैध रेत खनन जैसे गंभीर आरोप लगाए थे। साथ ही उन्होंने कहा था कि दिग्विजय सिंह मिलने आएंगे तो वह उन्हें कड़वी चाय पिलाएंगे। इसके बाद दिग्विजय सिंह ने कहा था कि कांग्रेस के नेता अनुशासन में रहें। भाजपा को कोई मौका न दें। सिंघार की कड़वी चाय पिलाने के जवाब में दिग्विजय ने सिर्फ इतना ही कहा कि ‘मुझे डायबिटीज नहीं है और मैं मीठी चाय पीता हूं।’