Loading...

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने सौंपा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन | MP NEWS

सीधी। आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार अध्यापकों के शिक्षा विभाग (राज्य शिक्षा सेवा) में नियुक्ति 1 वर्ष पूर्ण पूर्ण होने के उपरांत भी आज तक सातवें वेतनमान के लाभ ना मिलने से आक्रोशित अध्यापक शिक्षक संवर्ग जिले के पूजा पार्क गणेश मंदिर में एकत्र होकर आवश्यक बैठक कर अपना अपना आक्रोश व्यक्त किए इस दौरान आजाद अध्यापक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष हरीश मिश्रा ने कहा कि सातवें वेतनमान के आदेश होने के एक वर्ष पूर्ण होने के उपरांत भी उसका पालन ना होना दुर्भाग्यपूर्ण है। अपनी जायज मांगों के लिए अध्यापक शिक्षक संवर्ग को सड़क पर उतरना पडे बहुत ही दुखद और शर्मनाक है। 

विजय तिवारी प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा कि सातवें वेतनमान और स्थानीय समस्याओं के लिए आज की बैठक और ज्ञापन कार्यक्रम सरकार के लिए महज एक चेतावनी है सरकार द्वारा सातवां वेतन भुगतान करने के आदेश यदि शीघ्र नहीं किए गए तो प्रांतीय निर्णय के अनुसार प्रदेश का अध्यापक 21 जुलाई से राजधानी भोपाल की ओर कूच करेगा साथ ही जिले की स्थानीय समस्याएं जैसे वर्षों से लंबित क्रमोन्नति आदेश जारी ना होना, पदोन्नति न होना, एवं अध्यापक शिक्षक संवर्ग की वरिष्ठता सूची का प्रकाशन ना होना, किसी भी संकुल प्राचार्य द्वारा अध्यापकों की एनएसडीएल की कटौती राशि की पासबुक संधारित ना होना, छठवें वेतनमान की पहली एवं दूसरी किस्त का भुगतान ना होना भी अध्यापक शिक्षक संवर्ग की उपेक्षाओं द्योतक है, इनके बिना कारण शीघ्र ना होने पर आजाद अध्यापक शिक्षक संघ आंदोलन के लिए विवश होगा। 

बैठक के उपरांत सभी पदाधिकारी एवं अध्यापक जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय करुणा भवन पहुंचकर मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश शासन को संबोधित ज्ञापन कलेक्टर प्रतिनिधि को सौपे। ज्ञापन कार्यक्रम में हरीश मिश्रा जिला अध्यक्ष, विजय तिवारी प्रदेश उपाध्यक्ष, डॉ राजेश पांडे जिला संयोजक, अरुण सिंह जिला सचिव, रमेश पांडे जिला प्रवक्ता, धीरेंद्र सिंह जिला उपाध्यक्ष, महेश प्रजापति जिला सह संगठन मंत्री, सुखधाम सिंह ब्लॉक अध्यक्ष सीधी, विनय मिश्रा ब्लॉक अध्यक्ष मझौली, संतोष प्रजापति ब्लॉक अध्यक्ष सिहावल, शैलेंद्र सिंह चौहान कुसमी प्रभारी, राम कैलाश माझी, सुभाष मिश्रा, उमेश कुमार उपाध्याय, जितेंद्र तिवारी, मुन्नालाल साकेत रमेश कुमार द्विवेदी, प्रवीण शुक्ला, प्रभात तिवारी इत्यादि सैकड़ों अध्यापक शामिल रहे।