Loading...

पूर्व विधायक डॉ. सुनीलम ने ट्रेन के टॉयलेट में छुपकर जान बचाई | MP NEWS

भोपाल। सरकारों से सीधा लोहा लेने के लिए लोकप्रिय हुए पूर्व विधायक डॉ. सुनीलम बीते रोज चलती ट्रेन में एक हमले का शिकार होने से बाल बाले बचे। भोपाल रेलवे स्टेशन पर एक गैंग ने उनपर हमला करने की कोशिश की, डॉ. सुनीलम ने ट्रेन की टॉयलेट में छुपकर जान बचाई। डॉ. सुनीलम का कहना है कि उन्होंने बीमा में विवाद शुरू होने के तत्काल बाद प्रधानमंत्री और रेल मंत्री को ट्वीटर किया था परंतु भोपाल तक कोई राहत नहीं मिली। अब उन्होंने रेल मंत्री को लिखित शिकायत भेजी है। 

आरती नाम की लड़की के साथ था हमलावर

पूर्व विधायक ने रेलमंत्री पीयूष गोयल को मंगलवार को भेजे शिकायती पत्र में कहा कि सोमवार-मंगलवार की दरम्यानी रात निजामुद्दीन से मुलताई की ओर जाने वाली गोंडवाना एक्सप्रेस के बी-1 कोच के बर्थ नंबर 17 पर यात्रा कर रहे थे। इसी दौरान बीना स्टेशन पर एक युवक आरती नाम की लड़की के साथ उस कोच में सवार हुआ। यात्रा के दौरान इस युवक ने डॉ. सुनीलम के साथ कई बार अभद्रता की। उन्होंने इसकी शिकायत टीटीई से की। इतना ही नहीं, उन्होंने प्रधानमंत्री और रेलमंत्री के ट्विटर हैंडल पर भी शिकायत की। बीना से भोपाल तक आने में दो घंटे लगे, मगर इस दौरान उन्हें किसी का सहयोग नहीं मिला। 

भोपाल रेलवे स्टेशन पर हुआ हमला, टॉयलेट में बंद रहे

डॉ. सुनीलम ने ट्विटर पर लिखा है कि अनाधिकृत तौर पर यात्रा कर रहा युवक उन्हें लगातार धमकाता रहा। भोपाल स्टेशन पर उसके कई साथी भी आ गए, इस दौरान जान बचाने के लिए उन्हें खुद को शौचालय में बंद करना पड़ा। भोपाल स्टेशन पर जितनी देर गाड़ी खड़ी रही, उतनी देर तक युवक के साथी दरवाजे पर पैर से ठोकर मारते रहे, मगर कोई सुरक्षाकर्मी नहीं आया। 

टीटीई ने रिश्वत लेकर युवक को कोच में बर्थ दी थी

बैतूल जिले के मुलताई से दो बार विधायक रहे डॉ. सुनीलम ने गाड़ी के टीटीई का एक विडियो बनाया है, जिसे अपनी शिकायत के साथ उन्होंने रेलमंत्री को भेजा है। उनका कहना है कि रेलमंत्री और प्रधानमंत्री का ट्विटर हैंडल महज दिखावा है। टीटीई ने युवक को बिना टिकट एसी कोच में यात्रा करने की अनुमति क्यों दी, इसका टीटीई के पास कोई जवाब नहीं था। 

आपीएफ के अधिकारियों ने झूठी जानकारी दी

उन्होंने आगे लिखा कि शिकायत के तीन घंटे बाद गाड़ी जब होशंगाबाद पहुंची, तब एक सुरक्षाकर्मी उनके पास आया और बगैर जानकारी लिए चला गया। उन्होंने लिखा है कि आरपीएफ अधिकारी ने ट्विटर हैंडल पर बताया है कि युवक को भोपाल स्टेशन पर उतार दिया गया, जबकि ऐसा हुआ ही नहीं। अनाधिकृत यात्रा करने वाले युवक के साथियों ने भोपाल स्टेशन पर उन्हें मारने की कोशिश की, अगर वह खुद को शौचालय में बंद नहीं करते तो जान बचना मुश्किल था। डॉ. सुनीलम समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय सचिव और मध्यप्रदेश विधानसभा में एसपी विधायक दल के नेता रहे हैं। उन्होंने जान से मारने की धमकी देने वाले गुंडों को तत्काल गिरफ्तार किए जाने, दोषी अधिकारियों और कर्मचारियों को तत्काल निलंबित कर गिरफ्तार किए जाने की मांग की है।