Loading...

घर में सो रहे किसान की गला घोंटकर हत्या, किसी को पता तक नहीं चला | MP NEWS

बड़ामलहरा। पुलिस थाना क्षेत्र के दरगुवा गांव में बुधवार गुरुवार की दरम्यानी रात सोते समय दमोदर पिता जत्तु प्रजापति (42) वर्ष की गले मैं तौलिया का फंदा लगाकर हत्या कर दी हत्या की वजह पारिवारिक जमीन विवाद बताया जा रहा है। परिजनों ने पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुये नेशनल हाइवे पर चक्काजाम का प्रयास भी किया। घटना की सूचना पर एफएसएल की टीम पहुंची। पुलिस ने अपराध पंजीबद्व कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। घटना के एक दिन पूर्व आरोपियों ने मृतक के घर पर गोली भी चलाई थी।

जानकारी के अनुसार मृतक दमोदर प्रजापति बुधवार की शाम छतरपुर से वापस आया था एवं खाना खाने के बाद कमरे मै सोने चला गया जिस कमरे मैं वह सोया था उस कमरे के दरवाजे पर गेट नहीं थे जबकि उसकी पत्नी एवं बच्चे दूसरे कमरे मैं सो रहे थे कि रात मैं किसी ने उसके गले मैं तौलिया का फंदा बनाकर उससे गला दबाकर हत्या कर दी। तकरीबन तीन बजे जब उसकी पत्नी पुष्पा की नींद खुली एवं दरवाजा खोलने का प्रयास किया तो दरवाजे की कुन्डी बाहर से बन्द थी किसी तरह उसने दरवाजा खुलवाया शक होने पर पति के कमरे मैं पहुची तो पति को मृत पाया।

मृतक की पत्नी पुष्पा एवं माँ ने बताया कि मृतक के पिता जत्तु उर्फ हनुमत प्रजापति एवं सूरा दोनों सगे भाई हैं जिनकी पैतृक पांच एकड़ जमीन हतना हार मैं हैं जिस पर विवाद चल रहा हैं। न्यायालय मैं विचाराधीन हैं। उक्त भूमि पर चाचा एवं उसके पुत्र जबरन कब्जा कर रहे हैं। सोमवार को चाचा के लड़के लखन, नीरज, सन्तोष, एवं सन्तु ने उसके घर पर गोली चलाई जिसकी सूचना डायल 100 को दी किन्तु वह नहीं पहुची जब हम लोग पुलिस थाने रिपोर्ट लिखवाने आये तो पुलिस ने हम लोगों के साथ गाली गलोच की एवं रिपोर्ट की आज तक जांच पुलिस ने नहीं की बुधवार को भी हम लोग आये किन्तु पुलिस नहीं पहुची अगर पुलिस पहुँच जाती तो शायद यह घटना घटित ना होती।

मृतक के पिता ने बताया कि उसके पुत्र की हत्या सूरा, रामचरण, उसकी पत्नी प्रभा, लखन, उसकी पत्नी नन्नी, सन्तोष, एवं उसकी पत्नी मनीषा तथा नीरज ने मिलकर की हैं जिन्हें पुलिस बचा रही हैं। मृतक के पुत्र काशीराम का कहना हैं कि रात तकरीबन ग्यारह बजे मैंने चार पांच लोगों को अपने घर के पास देखा था जो बात चीत कर रहे थे आव्ज्ञज से मैंने नीरज एवं लखन को पहचान लिया था जो शीशी मैं कुछ लिए थे।

मृतक के परिजनों ने पुलिस पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुये चक्काजाम का प्रयास भी किया किन्तु आपसी समझाईस के बाद मान गये पुलिस ने हत्या का प्रकरण पंजीबद्व कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सोप कर बिबेचना प्रारंभ कर दी।