Loading...

JU के लैब अस्टिटेंट का सुसाइड नोट मिला | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। एजी पुल के पास रेल से कटकर आत्महत्या करने वाले परमानंद तिलवानी का स्यूसाइड नोट घर में मिल गया है। इस सुसाइड नोट में मृतक ने लिखा है कि साढ़े तीन करोड़ रुपये लेकर राजू खंडेलवाल ने उसके साथ धोखा किया है। यह रुपये उसने कर्मचारियों, रिश्तेदारों व नजदीकी लोगों से लेकर उसे दिये थे। जिसका ब्याज वह देता था। यह ब्याज वह ईमानदारी से इन लोगों में बांट देता था। अब रुपया देने से मुकर रहा है। जिससे वह इन लोगों का कर्जदार हो गया है। मेरे आत्महत्या करने का कारण राजू खंडेलवाल है। उसे छोड़ना नही। टीआई दामोदार गुप्ता ने बताया कि उन्हें अब तक परिजनों ने कोई सुसाइड नही दिया है। परमानंद के आत्महत्या का कारण पता लगाने के लिये जांच की जा रही है।  

हरिशंकरपुरम निवासी परमानंद तिलवानी जेयू में लैब अस्टिटेंट के पद पर कार्यरत था। गुरुवार की शाम को परमानंद का शव एजी पुल के पास ट्रेक पर मिला था। जेयू कर्मचारी ने ट्रेन से कटकर जान दी थी। पुलिस ने शुक्रवार की सुबह शव का पीएम कराने के बाद परिजनों को सौप दिया है। पुलिस का कहना था कि मृतक की जेब से मोबाइल के अलावा कुछ नही मिला है।

परिजनों का स्यूसाइड नोट मिला, राजू मौत का जिम्मेदार- मृतक के परिजनों को रूम में दो पेज का सुसाइड नोट मिल गया है। परमानंद तिलवानी ने लिखा है कि मैं आज अपना जीवन समाप्त कर रहा हूं। मेरी आत्महत्या का कारण राजू खंडेलवाल निवासी गोविंदपुरी है।

मेरे साथ उसने बड़ा धोखा किया है। उसने मेरे साथ साढ़े तीन करोड़ की धोखाधड़ी की है। जिससे मैं लोगों के कर्ज में आ गया हूं। राजू जो ब्याज देता था वह रुपये इंवेस्ट करने वालों में बांट देता था। अब उसके मन में बेईमानी आ गई है। राजू खंडेलवाल के कारण लोगों से बहुत अपमानित हुआ हूं।

तिवारी सर, गुप्ता सर, मंडेलिया व पटेल सर से निवेदन है कि मेरे जाने के बाद बच्चों का ख्याल रखना। मैंने किसी के साथ बेईमानी नही की है। मैंने विभाग का काम ईमानदारी से किया है। विवेक, मनोज, राकेश व राजकुमार राजू खंडेलवाल को छोड़ना नही। पुलिस अभी स्यूसाइड नोट मिलने से इंकार कर रही है।