Loading...

शिक्षकों की दक्षता परीक्षा फिर से होगी, इस बार 40% वाले भी | MP TEE 2nd TERM

भोपाल। स्कूल शिक्षा विभाग ने हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा में 0 से 30 फीसदी से कम लाने वाले स्कूलों पर सख्ती की कार्ययोजना बनाई है। ऐसे स्कूलों के शिक्षकों को दक्षता जांचने 12 जून को परीक्षा आयोजित की गई थी। इसमें भी कम अंक लाने वाले शिक्षकों की परीक्षा दोबारा 25 सितंबर को होगी। वहीं ऐसे स्कूल जिनका रिजल्ट 40 फीसदी आया था, वहां के शिक्षकों को भी इस परीक्षा में बैठना पड़ेगा।

बता दें कि जिन हाई स्कूल का रिजल्ट 40 फीसदी तक परीक्षा परिणाम था, उन्होंने बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को प्राइवेट घोषित कर दिया। इससे उनका परीक्षा परिणाम वास्तविकता से बेहतर हो गया। अब लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआई) ने ऐसे स्कूलों के शिक्षकों को भी नोटिस जारी करने का आदेश जिला शिक्षा अधिकारियों को दिया है। साथ ही जिन शिक्षकों ने 12 जून को परीक्षा दी थी और जिन्हें नोटिस जारी किया गया था, उन्हें भी एक सप्ताह के अंदर नोटिस का जवाब देना होगा। ऐसे स्कूलों की राज्य स्तर से समीक्षा की जाएगी। इसके लिए 15 दिन में संभागीय मुख्यालय पर इन स्कूलों के प्रभारियों के साथ बैठक आयोजित होगी।

नहीं सुधरे तो होगी कार्रवाई

12 जून को हुई परीक्षा में 50 फीसदी से कम अंक लाने वाले शिक्षकों को सुधार के लिए दो माह का नोटिस जारी किया जाएगा। इन शिक्षकों की 25 सितंबर को सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक दोबारा परीक्षा ली जाएगी। इसके बाद भी उनमें सुधार नहीं हुआ तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

शिक्षकों की दक्षता आधारित प्रशिक्षण

ऐसे शिक्षक जिन्होंने 12 जून की परीक्षा में 70 फीसदी से कम अंक प्राप्त किए हैं, उनके लिए हर शनिवार को दक्षता आधारित प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा। इसमें वे शिक्षक भी शामिल होंगे जो परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए थे। 20 जुलाई को पहला प्रशिक्षण कार्यक्रम होगा। इसके बाद सभी शिक्षकों का प्री व पोस्ट टेस्ट लिया जाएगा। प्रशिक्षण में शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्य होगी। जिला शिक्षा अधिकारी अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों को नोटिस जारी होगा। डीईओ एवं संयुक्त संचालक इन स्कूलों का नियमित भ्रमण करेंगे।