Loading...

पत्रकार चक्रेश जैन हत्याकांड: टीआई लाइन अटैच, SIT जांच करेगी | SAGAR MP NEWS

भोपाल। सागर जिले के शाहगढ़ में पत्रकार श्री चक्रेश जैन की हत्या के मामले में एसपी अमित सांघी ने घटना स्थल का निरीक्षण करने के बाद टीआई जाहिद यार खान को लाइन अटैच कर दिया है। बता दें कि पुलिस ने इस मामले में आरोपित जनपद पंचायत के एडीओ अमन चौधरी की तरफ से मृत पत्रकार चक्रेश जैन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। इस मामले में पुलिस पर पत्रकार के खिलाफ पक्षपातपूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाया गया है, क्योंकि पत्रकार चक्रेश जैन लगातार पुलिस के खिलाफ भी खबरें प्रकाशित कर रहा था। बता दें कि इस मामले में पूरे प्रदेश में पत्रकार आक्रोशित हैं एवं प्रदर्शन कर रहे हैं। 

घटनाक्रम क्या हुआ

बुधवार की सुबह एडीओ खुद 20 फीसदी से ज्यादा जली हुई हालत में शाहगढ़ थाने पहुंचे और पत्रकार जैन के खिलाफ पेट्राेल छिड़क कर जलाने की रिपाेर्ट दर्ज कराई। थाना प्रभारी ने बिना प्रारंभिक जानकारी जुटाए मामला दर्ज किया। कुछ देर बाद अमरमऊ के पास एक झाेपड़ी में 90 फीसदी से ज्यादा जली हुई हालत में पत्रकार जैन मरणासन्न हालत में मिले। अस्पताल लाने के बाद उसने दम ताेड़ दिया। सागर एसपी अमित सांघी ने कहा था कि दाेनाें पक्ष के लाेग झुलसे हुए मिले हैं। मृतक के परिजनाें के आराेपाें और इस पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। जाे भी साक्ष्य-सबूत मिलेंगे उसके आधार पर केस दर्ज करेंगे।

एडीओ चाैधरी ने क्या बताया

एडीओ चाैधरी ने बताया कि उनका पत्रकार जैन के साथ विवाद हुआ था। जिस पर जैन के खिलाफ हरिजन एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था। यह मामला काेर्ट में चल रहा था और कुछ दिन बाद फैसला आने वाला था। जैन इस मामले में राजीनामा चाहते थे। इसी सिलसिले में उनकी बुधवार की सुबह चाैधरी से बात हुई। जिस पर उन्हाेंने जैन काे अमरमऊ स्थित अपने सरकारी क्वार्टर पर बुलाया था। उन्हाेंने पुलिस काे बताया कि जैन ने उस पर पेट्राेल छिड़ककर आग लगा दी और भाग गया। पुलिस ने चाैधरी काे बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज सागर रैफर कर दिया। यहां उनके तहसीलदार ने बयान लिया और शून्य पर केस दर्ज कर लिया। 

पत्रकार खुद 90 प्रतिशत जली हुई हालत में मिला

अब तक माना जा रहा था कि पत्रकार जैन ने एडीओ को जलाने की कोशिश की परंतु इसी बीच पता चला कि अमरमऊ से 3-4 किमी दूर जंगली इलाके में बनी झाेपड़ी पत्रकार जैन जली हुई हालत में पड़े हैं। मीडिया से जुड़े लाेग और परिजन वहां पहुंचे और उसे शाहगढ़ अस्पताल ले गए। यहां डाॅक्टराें ने चैकअप के बाद उसे मृत घाेषित कर दिया। 

भाई का आराेप- जब वह जिंदा था पुलिस ने बयान नहीं लिये

मृतक जैन के छाेटे भाई राजू ने बताया कि एडीओ चाैधरी व उनके एक साथी ने उसके भाई काे जिंदा जलाकर चंदिया के पास फिकवा दिया। उसे अस्पताल लाए तब वह जिंदा था। उस समय डाॅक्टर व पुलिस माैजूद थी, लेकिन उसके बयान नहीं लिए गए। शाहगढ़ के पत्रकाराें ने इस घटना के बाद एसपी काे ज्ञापन साैंपकर आराेपियाें के खिलाफ हत्या के केस दर्ज करने की मांग की है। 

पत्रकार जैन के पक्ष का आरोप

पत्रकार चक्रेश जैन ने गाय बैल बछड़े से भरे ट्रक पुलिस द्वारा छोड़े जाने तथा चोरी घटनाओं पर खबरें छापी जिससे पुलिस नरराज थी। जनपद पंचायत में 20 वर्ष से पदस्थ अमन चौधरी (अहिरवार) के विरूद्ध भ्रष्टाचार की खबर छापी जिस पर आरोपी की विभागीय जांच शुरू हो गई थीं इसी के चलते अमन चौधरी ने पत्रकार जैन के खिलाफ रंजिशन अनुसूचित जाति अत्याचार अधिनियम का झूठा प्रकरण पुलिस से सांठगांठ कर बनवाया। जिसकी विशेष सत्र न्यायालय सागर मे तारीख नियत थी किन्तु गवाह नही आ रहे थे। इसी बीच पत्रकार चक्रेश जैन ने पंचायत अधिकारी अमन चौधरी द्वारा अपने सगे साले को कुटीर योजना का लाभ नियम विरुद्ध ढंग से देने की शिकायत कर दी। इस मामले में भी जांच शुरू हो गई थी। इसी के चलते अमन चौधरी ने हत्या की साजिश रची और पुलिस उसका साथ दे रही है। 

एएसपी का बयान

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश व्यास ने बताया कि शाहगढ़ जनपद पंचायत के एडीओ अमन चौधरी का यहीं के एक पत्रकार चक्रेश जैन से पुराना विवाद चल रहा था। इसी विवाद के चलते चक्रैश पेट्रोल लेकर अमन के पास पहुंचा। इसी बीच दोनों में विवाद होने लगा। चक्रेश में अमन पर पेट्रोल डालने का प्रयास किया। इसी दौरान पेट्रोल दोनों के ऊपर गिर गया और आग लग गयी। अमन किसी तरह वहां से भागकर अस्पताल पहुंचा गया, लेकिन चक्रेश जंगल की ओर भाग गया, जहां वह एक झोपड़ी में घुस गया। जहां आग से जल जाने के कारण उसकी मौत हो गई।