Loading...

NCERT की किताबों से पढ़कर AIIMS ऑल इंडिया 8वीं रैंक हासिल की: राघव दुबे | TRICK TO PASS AIIMS EXAM

भोपाल। एम्स रिजल्ट में ऑल इंडिया 8वीं रैंक हासिल करने वाले होशंगाबाद के राघव दुबे कहते हैं कि उन्होंने एनसीईआरटी की किताबों से ही तैयारी की। राघव का मानना है कि दूसरी अन्य किताबों की मदद लेना वक्त की बर्बादी है। राधव ने नीट परीक्षा-2019 में 10वीं रैंक हासिल की थी। राघव के पिता हर्षित दुबे बिजनेसमैन और मां रश्मि होममेकर हैं। 

राघव ने कोटा में जाकर तैयारी की। वह कहते हैं कि कोटा जाकर तैयारी का मकसद एम्स के एग्जाम को क्रेक करना था। वह बताते हैं कि राेजाना 7-8 घंटे स्टडी करता था। फोकस हमेशा एनसीईआरटी की किताबों पर रखा। कारण यह है कि एनसीईआरटी की किताबें इतनी सरल होती हैं कि इनसे विषय को आसानी से समझने में मदद मिलती है। 

राघव का मानना है कि स्टूडेंट्स अक्सर कोर्स के बाहर की किताबें तलाशते हैं और उन्हें समझने का प्रयास करते हैं। इसमें काफी टाइम वेस्ट हो जाता है। इस कारण वह एग्जाम में परफॉर्म नहीं कर पाते हैं।

राघव को क्रिकेट-फुटबॉल का शौक

राघव क्रिकेट और फुटबॉल के भी शौकीन हैं। जब भी भारत का वन डे मैच होता है तो वे टीम इंडिया की यूनिफार्म पहनकर ही मैच देखते हैं। रविवार को अपने घर पहुंचे राघव ने बताया कि ऑस्ट्रेलिया और इंडिया के मैच के लिए उन्होंने पहले से इंडिया टीम की टी शर्ट मंगा ली थी।

राघव ने बताया कि 2015 के वर्ल्ड कप से ही वह टीम की टीशर्ट पहनकर मैच देखते हैं। क्रिकेट की तरह ही उन्हें फुटबॉल देखने का भी शौक है। फुटबाल में रोनाल्डो उनके पसंदीदा प्लेयर हैं। क्रिकेट में वे एमएस धोनी और रोहित शर्मा के खेल से प्रभावित हैं। 

इन्हें भी मिली रैंक 

राघव के अलावा भोपाल के कुनाल मोदी को ऑल इंडिया 65वीं रैंक, कीर्ति अग्रवाल को 161वीं रैंक, चैतन्य चतुर्वेदी को 432वीं रैंक, शिवांग अग्रवाल को 486 वीं रैंक और ईशान मिश्रा को 531 वीं रैंक मिली। एम्स परीक्षा 25-26 मई को दो पालियों में आयोजित की गई थी, जिसके माध्यम से वर्तमान शैक्षिक सत्र में 11 एम्स संस्थानों की लगभग 1207 एमबीबीएस सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा। इस परीक्षा में भोपाल से करीब 3500 छात्र शामिल हुए थे।