Loading...

जबलपुर रेलवे स्टेशन पर यात्रियों का फ्री इलाज होगा | JABALPUR NEWS

जबलपुर। ट्रेन या स्टेशन पर बीमार होने वाले यात्रियों को अब इलाज के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। जबलपुर रेलवे स्टेशन पर छोटी हो या बड़ी बीमारी सभी का मुफ्त इलाज मिलेगा। खास बात यह है कि यह सुविधा रेलवे अस्पताल की बजाए निजी अस्पताल के डॉक्टर्स देंगे। 

दरअसल अभी तक यात्री के गंभीर रूप से बीमार होने पर उन्हें एम्बुलेंस की मदद से शासकीय अस्पताल भेज दिया जाता है। वहीं दर्द, उल्टी या बीपी जैसी छोटी शिकायत होने पर स्टेशन पर दवा लेकर रवाना कर देते हैं। अब न सिर्फ छोटी बल्कि हार्टअटैक जैसी शिकायत होने पर यात्री को स्टेशन की OPD में प्रारंभिक उपचार दिया जाएगा। इसके लिए जबलपुर रेल मंडल, शहर के एक निजी अस्पताल की मदद से स्टेशन पर मुफ्त इलाज की सुविधा देने जा रहा है।

प्राइवेट हॉस्पिटल का ट्रीटमेंट होगा तथा जगह रेलवे की होगी  

रेलवे बोर्ड ने जबलपुर मंडल समेत देश के सभी रेल मंडल को निर्देश दिए हैं कि वे रेलवे स्टेशन पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं दें। इसके लिए रेलवे, निजी अस्पताल प्रबंधन का सहयोग ले। जबलपुर रेलवे स्टेशन ने इसकी शुरुआत कर दी है। तकरीबन एक माह के भीतर ही प्लेटफार्म 1 के कॉरीडोर में ओपीडी खोली जाएगी। इसके लिए रेलवे अस्पताल प्रबंधन को तकरीबन 250 वर्गफीट की जगह निःशुल्क उपलब्ध करा रहा है।

डिप्टी SS के रेफर करने पर फ्री होगा इलाज 

यात्रियों को निःशुल्क इलाज लेने के लिए जबलपुर रेलवे ने नियम भी तय किए हैं, ताकि इसका दुरुपयोग न हो। ट्रेन या स्टेशन पर बीमार होने वाले यात्री को निःशुल्क इलाज कराने के लिए स्टेशन के उप स्टेशन अधीक्षक द्वारा अनुमोदन कराना होगा। खास बात यह है कि यात्रियों को निजी अस्पताल तभी ले जाया जाएगा, जब यात्री के साथ चल रहे परिजन इसकी स्वीकृति दें। इतना ही नहीं निजी ओपीडी पर मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की गुणवत्ता पर रेलवे के अस्पताल प्रबंधन के अधिकारी नजर रखेंगे।

अभी तक की परेशानी

ट्रेन में यात्री बीमार होने पर न तो टीटीई के पास दवा होती है न ही कोई सुविधाएं।
प्लेटफार्म पर दवाई की दुकान खोलने का प्रस्ताव भी ठंडे बस्ते में चला गया है।
प्रसव, हार्टअटैक, घायल होने पर यात्रियों को सीधे शासकीय अस्पताल भेजा जाता है।
शासकीय अस्पताल ले जाने के बाद उसे वहां भगवान भरोसे छोड़ दिया जाता है।

यह होंगी सुविधाएं 

यात्री के बीमार होने पर तत्काल जानकारी स्टेशन के उप स्टेशन अधीक्षक को दी जाएगी।
स्टेशन पर ट्रेन आते ही डॉक्टर, स्ट्रेचर और स्वास्थ्य सुविधाएं मौके पर मिलेंगी।
ज्यादा बीमार होने पर तत्काल ओपीडी ले जाकर प्रारंभिक इलाज दिया जाएगा।
गंभीर होने पर परिजनों की सहमति से उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

बीमार होने पर क्या करें ? 

ट्रेन में हैं तो 139 या 182 पर जानकारी दें।
ट्रेन के टीटीई से संपर्क कर जानकारी दें।
स्टेशन के उप स्टेशन अधीक्षक के पास जाएं।
आरपीएफ की भी मदद ली जा सकती है।

स्टेशन पर निजी अस्पताल की मदद से यात्रियों को मुफ्त इलाज की सुविधा दी जा रही है। इसके लिए स्टेशन के प्लेटफार्म 1 पर ओपीडी खोलने के लिए निजी अस्पताल को जगह दी गई है।
बसंत शर्मा, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल