Loading...

IIT में इस वर्ष 1083 सीटों की इजाफा हुआ | EDUCATION NEWS

ग्वालियर। देश की 23 आईआईटी, 31 एनआईटी, 25 ट्रिपल आईटी और 28 जीएफटीआई में प्रवेश के लिए ज्वॉइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (जोसा) की ओर से काउंसिलिंग की शुरुआत हो चुकी है। इस बार आईआईटी में 1083 सीटों का इजाफा हुआ है। 

अब यहां 12 हजार 362 सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा जबकि पिछले साल सीट संख्या 11279 थी। इसी तरह 31 एनआईटी में 2470 सीटें बढ़ाई गई हैं। अब इनमें 20 हजार 437 सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा। इसी तरह 25 ट्रिपल आईटी की 4 हजार 617 और 28 जीएफटीआई की 5 हजार 769 सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा। इस बार जोसा की ओर से 107 संस्थानों की 43 हजार 185 सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा।  

पिछले वर्ष की अपेक्षा 5233 सीटें अधिक हैं। एबीवी ट्रिपल आईटीएम में हेल्प व रिपोर्टिंग सेंटर के इंचार्ज डॉ. जॉयदीप धर ने बताया कि छात्राओं के लिए सुपरन्यूमरेरी कोटा 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 17 प्रतिशत कर दिया गया है। इस वर्ष आईआईटी में 1221 अतिरिक्त सीटों पर छात्राओं को प्रवेश दिया जाएगा। 

काउंसिलिंग में होंगे 3 विकल्प 

काउंसिलिंग के दौरान विद्यार्थियों को 3 विकल्प दिए जाएंगे। इनमें फ्रीज, फ्लोटिंग और स्लाइडिंग शामिल है। अगर विद्यार्थी आवंटित सीट से संतुष्ट है तो वह फ्रीज का विकल्प चुनकर सीट पक्की कर लेगा। फ्लोट विकल्प में विद्यार्थी अपग्रेडेशन चाहता है। स्लाइड विकल्प से छात्र कॉलेज व ब्रांच से संतुष्ट है, लेकिन अभी भी ब्रांच में अपग्रेडेशन का इच्छुक है। 


ड्यूल रिपोर्टिंग का ध्यान रखना होगा 

पहले राउंड के एलाेकेशन में विद्यार्थी को एनआईटी में सीट अलॉट की गई है, तो उसे एनआईटी में रिपोर्ट करनी होगी। इसके बाद उसने फ्लोट का विकल्प चुना है। अगले राउंड में सीट अपग्रेड होती है और उसे आईआईटी अलॉट होता है तो उसे आईआईटी के रिपोर्टिंग सेंटर पर भी रिपोर्ट करनी होगी। ऐसा न करने पर वह काउंसिलिंग से बाहर हो जाएगा। 

ग्वालियर में कितनी सीट 

एबीवी ट्रिपल आईटीएम में इस बार 262 सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा। इनमें 9 ईडब्ल्यूएस कैटेगरी की सीट शामिल हैं। इसी तरह मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (मैनिट) में 1055 और ट्रिपल आईटी भोपाल की 198 सीटों पर विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा। 

रिपोर्ट न करने पर होंगे बाहर 

काउंसिलिंग के दौरान विद्यार्थी को सीट आवंटित हुई है तो उसे संबंधित रिपोर्टिंग सेंटर पर रिपोर्ट करना होगा। यहां दस्तावेजों का सत्यापन सहित अन्य प्रक्रिया पूरी करनी होगी। ऐसा न करने वाले विद्यार्थी काउंसिलिंग से बाहर हो जाएंगे। यह जानकारी जोसा की ओर से दी गई है।