Loading...

BHOAPL NEWS : आदमखोर कुत्तों ने घर में घुसकर 2 बच्चों पर हमला किया

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल का हर मासूम खतरे में है। आसपास टहल रहा अवारा कुत्ता सामान्य है या आदमखोर कहा नहीं जा सकता। 1 मासूम की मौत और 4 से ज्यादा हमलों के बाद भी नगर निगम आवारा कुत्तों को रोकने में नाकाम साबित हो रहा है। राजवंश कालोनी में कुत्तों ने घर में घुसकर 2 बच्चों पर हमला किया। 

नगर निगम के सारे दावे फेल, बच्चों पर खतरा बरकरार

मामला करोंद इलाके का है। पूरे क्षेत्र में दहशत का माहौल है। राजवंश कॉलोनी (Rajvansh colony) में 4 वर्षीय अनवी शर्मा (Anvi Sharma) को कुत्ते ने घर में घुसकर घायल कर दिया। वह रायसेन जिले के सुल्तानापुर से अपने नाना के घर आई थी। इसी कॉलोनी में साढ़े चार वर्षीय विधान सिंह (Vidhan singh) पर भी घर के सामने खेलते समय हमला कर घायल कर दिया। कुत्तों के आतंक को लेकर नगर निगम के पास रोजाना शिकायतें पहुंच रही हैं। इसके बाद भी घटनाएं कम नहीं हो रही हैं। ऐसे आवारा कुत्ते जिनका बिहेवियर ठीक नहीं लगता उनको नगर निगम ने सर्विलांस पर लेने का दावा किया है, लेकिन रोजाना बढ़ती ऐसी घटनाएं इस व्यवस्था को फेल साबित कर रही हैं। 

निगम की टीम बिफल रही, कुत्ते अब भी खुलेआम घूम रहे हैं

अनवी राजवंश कॉलोनी स्थित अपने नाना के घर पर खेल रही थी। नाना ब्रजनंदन नायक पुलिस में हेड कांस्टेबल हैं। अनवी घर के अंदर पोर्च में खेल रही थी। कुत्ता घर के अंदर घुसा और उसके बाएं गाल में काट लिया। नायक ने बताया कि पहले कभी शिकायत करने की जरूरत महसूस नहीं की। शिकायत करने पर नगर निगम की टीम आई थी, लेकिन वो कुत्ते को तलाशने में नाकाम रही। यानी कुत्ता अब भी इलाके में है। किसी भी बच्चे पर हमला कर सकता है। 

कवर्ड केंपस भी सुरक्षित नहीं हैं

विधान के पिता रवि सिंह ने बताया कि बेटा शाम 7.30 बजे घर के सामने ही खेल रहा था। तभी कुत्ता आया और उसे नाखून से घायल करके भाग निकला। वह बुरी से तरह डरा हुआ है। उसका इलाज एक निजी हॉस्पिटल में कराया गया है। रवि ने बताया वे कवर्ड कैंपस में रहते हैं, इसलिए शिकायत करने की जरूरत नहीं पड़ी, लेकिन घटना के बाद निगम और सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत कर दी है। 

नगर निगम की सफाई

अमले ने कुत्ते को पकड़ लिया गया है। इस तरह की घटनाएं सामने नहीं आएं, इसलिए कुत्तों का इलाज कराया जाता है। जिन कुत्तों का व्यवहार असामान्य लगता है, उनका ट्रीटमेंट कराया जा रहा है। 
रोजश राठौर, अपर आयुक्त, नगर निगम