Loading...

AIRPORT से यात्रियों का एक्स्ट्रा लगेज 24 घंटे में उनके घर पहुंचाया जाएगा | INDORE NEWS

इंदौर। देश में पहली बार देवी अहिल्याबाई होलकर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से यात्रियों के लिए सोमवार को एक विशेष सुविधा की शुरुआत की गई। इसके तहत एयरपोर्ट पर ज्यादा लगेज लेकर आने वाले यात्रियों को अब इसका ज्यादा किराया नहीं देना होगा। निजी कूरियर कंपनी डीटीडीसी अब 70 से 200 रुपए प्रति किलो का किराया लेकर इसे 24 घंटे में यात्री के देशभर में कही भी स्थित उसके घर पहुंचा देगी। कंपनी का दावा है कि वह 25 देशों में भी यात्रियों का लगेज पहुंचा देगी।  

एयरपोर्ट डायरेक्टर अर्यमा सान्याल, डीटीडीसी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर अभिषेक चक्रवती ने सुबह इसके काउंटर का फीता काटकर शुभांरभ किया। सान्याल ने बताया कि अब यात्रियों के लिए उनका अतिरिक्त सामान बोझ नहीं बनेगा। चक्रवती के मुताबिक यह हमारा पहला काउंटर है,जो एविएशन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। इसके बाद जल्द ही अन्य एयरपोर्ट पर भी ऐसी सुविधा देने का प्रयास करेंगे। इंदौर में हर साल में सामान्य कूरियर में करीब 20 करोड़ का कारोबार करते हैं, लेकिन अब इससे हमारा व्यापार भी बढ़ेगा। हमने यात्रियों को यह सुविधा देने के लिए काफी तैयारी की है। कुछ माह में हमें पता चल जाएगा कि यात्रियों को हमारी सुविधा कितनी पसंद आई।

12 से 18 घंटे में डिलिवरी

चक्रवती ने बताया कि हमने जो योजना तैयार की है। उसके मुताबिक देश के प्रमुख शहरों में हम यात्रियों को 12 से 18 घंटे में उनके घर पर डिलिवरी दे देंगे, जबकि किसी छोटे शहर में 48 घंटे के भीतर हो जाएगी। इसके लिए हमने चार्ज 150 से 200 रुपए के बीच में तय किया है। कोई यात्री चाहेगा कि उसका माल सड़क मार्ग से भेजा जाए तो हम 70 रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से चार्ज कर उसे स़ड़क मार्ग से भेज देंगे। अभी देश के 12500 पिनकोड (पोस्ट ऑफिस के क्षेत्र अनुसार) में हम डिलिवरी करते हैं। 2022 में हम 22 हजार पिनकोड तक डिलिवरी कर देंगे।

दूर होगी इंटरनेशनल फ्लाइट के यात्रियों की परेशानी

चक्रवती ने बताया कि अमेरिका, यूरोप, इंग्लैंड और सऊदी अरब के करीब 25 देशों में हमारी कूरियर सर्विस है। यात्री चाहेगा तो हम उन्हें सीधे वहां पर भी डिलिवरी दे देंगे। जिन एयरपोर्ट पर सीधे इंटरनेशनल फ्लाइट नहीं होती है, उनके यात्रियों के सामने बड़ी दिक्कत यह होती है कि उन्हें इंटरनेशनल फ्लाइट दिल्ली या मुंबई से मिलती है। इंटरनेशनल फ्लाइट में यात्रियों को करीब 30 किलो मेन लगेज ले जाने की अनुमति होती है, जबकि डोमेस्टिक फ्लाइट में एयरलाइंस केवल 15 किलो लगेज ले जाने की अनुमति देती है। इससे यात्रियों को परेशानी होती है। हम इस समस्या हो भी हल कर देंगे। यात्री चाहेगा तो उसका माल सीधे विदेश या दिल्ली-मुंबई एयरपोर्ट पर डिलिवर कर देंगे।

कंपनी ऐसे करेगी काम

एयरपोर्ट डायरेक्टर के मुताबिक यात्री को जब पता चलेगा कि उसके पास ज्यादा लगेज है तो वह टर्मिनल में ही बने डीटीडीसी के काउंटर पर जाएगा। यहां वह बताएगा कि वह एक्सप्रेस डिलिवरी चाहता है या सामान्य डिलिवरी। अपना परिचय पत्र दिखाने के बाद वह सामान बुक कर देगा। इसके बाद कंपनी अपनी प्रक्रिया शुरू कर देगी। अगर बड़ा या ऐसा कोई प्रतिबंधित सामान है जिसे विमान में ले जाने की अनुमति नहीं है तो कंपनी इसे सड़क मार्ग से भेज देगी। फिर यात्री के लिखाए पते पर सामान पहुंच जाएगा।