Loading...

प्रज्ञा सिंह ठाकुर: 13 घंटे हो गए ट्रोल होते-होत, ट्वीट नहीं हटाया | MP NEWS

भोपाल। सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के विवाद और गलत बात पर डटे रहने की जिद आने वाले दिनों में शायद किसी इतिहास में दर्ज की जाएगी। ठीक 13 घंटे पहले उनके आधिकारिक ट्वीटर हेंडल से एक ट्वीट हुआ। उसमें 2 गलतियां थीं। सामान्यत: ऐसा होने पर लोग अपना ट्वीट रिमूव कर देते हैं। प्रज्ञा सिंह ठाकुर 13 घंटे से लगातार सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रहीं हैं, लेकिन उन्होंने अपना ट्वीट नहीं हटाया। 

क्या ट्वीट किया है सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने 

भोपाल से सांसद एवं भाजपा नेता प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष श्री मदनलाल सैनी के निधन पर शोक जताते हुए लिखा है 'माननीय राज्यसभा सदस्य औऱ राजिस्थान बी जे पी प्रदेश अध्य्क्ष श्री मदन लाल जी सैनी को हार्दिक श्रद्धांजलि ॐ शांति: शान्ति: शांति:।'

इसमें गलत क्या है, शोर क्यों मच रहा है

2 लाइन के इस ट्वीट में हिंदी की 2 गलतियां हैं। उन्होंने राजस्थान को 'राजिस्थान' लिख दिया और प्रदेश अध्यक्ष को 'प्रदेश अध्य्क्ष'। यहां तक तो ठीक था। हिंदी की गलती थी। हिग्लिश से हिंदी लिखने वाले टूल्स का उपयोग करते समय यह गलतियां हो जातीं हैं। लोगों ने तंज कसा और लेकिन इसी ट्वीट में उन्होंने लिखा 'हार्दिक श्रद्धांजलि'। इसी शब्द को लेकर उन्हे ट्रोल किया जा रहा है। लोग सवाल कर रहे हैं कि श्रद्धांजलि 'हार्दिक' कब से होने लगी। 



भोपाल समाचार की सुर्खियों में क्यों आई

इस ट्वीट पर सबसे पहले भोपाल के वरिष्ठ पत्रकारों ने सूचनात्मक प्रतिक्रियाएं दीं। हमारा मानना था कि यह समाचार का विषय नहीं होना चाहिए। एक त्रुटी हो गई है, जैसे ही प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पता चलेगा, वो ट्वीट हटा लेंगी। फिर सोचा, सांसद हैं, देख नहीं पाई होंगी कि लोग क्या प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। कुछ समय बाद हटा लेंगी परंतु जब रात 10 बजने को आए तो फिर मामला समाचार का विषय बन गया। शोक प्रकट करने के लिए हिंदी साहित्य को एक नया शब्द मिला है ''हार्दिक श्रद्धांजलि'।