Loading...    
   


मैट्रिमोनियल एजेंसी के नाम पर लॉटरी की ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश | GWALIOR NEWS

ग्वालियर। लाखों रुपए की लॉटरी (Lottery) निकलने का झांसा देकर लोगों को ठगने वाले गिरोह का भांडा-फोड़ कर इंदरगंज पुलिस ने सिटी सेंटर में मैट्रिमोनियल एजेंसी (Matrimonial Agency) चलाने वाली महिला किरण गुर्जर सहित एजेंसी के चार कर्मचारियों को हिरासत में लिया है। इनमें मधु मांझी नामक वह युवती भी शामिल है जो शुक्रवार को पीएनबी (PNB) की राममंदिर शाखा में अपने बंद एकाउंट के बारे में पूछताछ करने पहुंची थी। बैंक ने उसका एकाउंट फ्रॉड के संदेह में फ्रीज कर दिया था। यह एकाउंट मधु मांझी (Madhu Manjhi) पुत्री सुरेश मांझी (Suresh Manjhi) निवासी कैलाश टॉकीज ग्वालियर के नाम है।   

ग्वालियर पुलिस उसकी तलाश में छत्तीसगढ़ पुलिस से संपर्क कर रही है। इंदरगंज पुलिस को हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ में ग्वालियर के ही आधा दर्जन लोगों के नाम पता चले हैं। लोगों को ठगने वाला गिरोह का जाल अंतरराज्यीय है। इसका मास्टर माइंड रायपुर छत्तीसगढ़ में बैठकर दूसरे प्रदेश के लोगों को लॉटरी का झांसा देकर, आधारकार्ड लिंक कराने या केवायसी अपडेट कराने के नाम पर अपने जाल में फंसाता है। इसके बाद ठगी की रकम जमा कराने के लिए ग्वालियर मप्र में खुलवाए गए बैंक खाते का उपयोग किया जाता है। ठगी का शिकार होने वाले रिटायर्ड कैप्टन यूपी के हैं। लेकिन आशंका है कि अन्य राज्यों के लोग भी गिरोह के शिकार हुए होंगे। 

यह है मामला: 

रिटायर्ड कैप्टन से ठगे 3.15 लाख रुपए: गोंडा यूपी के रहने वाले सेना के रिटायर्ड कैप्टन विजय कुमार के पास इसी साल जनवरी में 7390893959 नंबर से एक महिला का कॉल पहुंचा। महिला ने अपना नाम ममता तिवारी आैर खुद को पंजाब नेशनल बैंक का कर्मचारी बताते हुए कहा कि आपका एकाउंट 50 लाख रुपए की लॉटरी के लिए चुना गया है। सप्ताह भर बाद 7691958789 नंबर से उनके पास फिर कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को पीएनबी बैंक का अफसर और नाम मनीष शर्मा बताते हुए लॉटरी की बात दोहराई और लॉटरी की रकम पाने के बदले में अग्रिम टैक्स देने की बात कही। इस पर कैप्टन झांसे में आ गए। मनीष के कहने पर उन्होंने मधु मांझी के बैंक एकाउंट में किश्तों में 3.15 लाख रुपए जमा करा दिए। कुछ दिन इंतजार के बाद उन्होंने ममता आैर मनीष के नंबरों पर फोन लगाए तो दोनों नंबर बंद मिले। तब उन्होंने यूपी पुलिस को शिकायत की। पुलिस ने पीएनबी के मुख्यालय से संपर्क किया तो पता लगा कि उक्त एकाउंट बैंक की ग्वालियर राममंदिर स्थित शाखा का है। उसमें 90 हजार रुपए जमा हैं। इसके बाद उस खाते को फ्रॉड के संदेह में 17 मार्च को फ्रीज करा दिया गया। 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here