कागज के बंडल भेजकर कह रहे हैं कर दी कर्जमाफी: शिवराज सिंह चौहान | GWALIOR MP NEWS

Advertisement

कागज के बंडल भेजकर कह रहे हैं कर दी कर्जमाफी: शिवराज सिंह चौहान | GWALIOR MP NEWS

भिंड/मुरैना/दतिया/ग्वालियर। छली और कपटी कांग्रेस ने किसानों से झूठे वादे करके सत्ता हथिया ली। इनके नेता राहुल बाबा मध्यप्रदेश में किसानों से कहते थे कि कांग्रेस की सरकार बनाओ, 10 दिनों में किसानों का कर्जा माफ कर दूंगा। यदि नहीं किया तो मुख्यमंत्री को ही बदल दूंगा। अब हम कह रहे हैं कि कर्जा माफ नहीं हुआ है, तो मुख्यमंत्री कमलनाथ तिलमिला रहे हैं, कांग्रेसी फड़फड़ा रहे हैं। मेरे पास कागज के बंडल भिजवाकर कह रहे हैं कि कर्जा माफ कर दिया है। मेरे पास कागज भिजवाने से नहीं होगा कर्जामाफ, इसके लिए बैंकों को पैसा देना पड़ेगा। ये बातें पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को भिंड से पार्टी प्रत्याशी संध्या राय, मुरैना से प्रत्याशी श्री नरेंद्रसिंह तोमर एवं ग्वालियर से प्रत्याशी श्री विवेक शेजवलकर के समर्थन में आयोजित सभाओं को संबोधित करते हुए कही। पूर्व मुख्यमंत्री ने अटेर, लहार, सेंवढ़ा, बड़ौदा, विजयपुर, जौरा, छेड़ा और ग्वालियर में जनसभाओं को संबोधित किया।

48 हजार करोड़ का कर्ज, 1300 करोड़ में कैसे होगा माफ
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कांग्रेस के हमारे मित्र पता नहीं कहां-कहां के कागज लेकर मेरे पास आए और बोले कि किसानों का कर्जा माफ कर दिया है।  लेकिन वे यह नहीं जानते कि कागज के बंडल मुझे देने से क्या होगा, इसके लिए बैंकों को पैसा देना होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसानों के उपर 48 हजार करोड़ रूपए का कर्जा है और इन्होंने बैंकों को 1300 करोड़ रूपए दिया। इतनी कम राशि में बैंक कहां से किसानों का कर्जामाफ कर सकती हैं। नतीजा यह है कि अब बैंकों ने किसानों को नोटिस देना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने अपने किए गए वादे पूरे नहीं किए तो ठीक नहीं होगा।

दिल्ली नहीं जाउंगा, प्रदेश में ही संघर्ष करूंगा
पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं तीन बार मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री रहा। 13 सालों तक सरकार चलाई, मैं दिल्ली नहीं जाउंगा। यहीं मध्यप्रदेश में रहकर अपने प्रदेश की जनता की सेवा करूंगा और अपने कार्यकर्ताओं के साथ सरकार से लड़कर संघर्ष करूंगा। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस सरकार ने प्रदेश की जनता के साथ छलावा किया, उनसे किए गए वादे पूरे नहीं किए तो इस सरकार की ईंट से ईंट बजा दूंगा। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि ये कांग्रेस के लोग झूठे वादे करके प्रदेश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। वे समझ रहे हैं कि अब शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री नहीं है, लेकिन डरने की बात नहीं है। मैं भले ही मुख्यमंत्री नहीं हूं, दुबला-पतला हूं, लेकिन कमजोर नहीं हूं। टाइगर अभी जिंदा है।

बेईमान सरकार है, सिर्फ पैसे कमाने में लगी है
श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांग्रेस की प्रदेश सरकार बेईमान है। इन्होंने प्रदेश में विकास के कार्य ठप्प कर दिए हैं। हमारी सरकार में चलाई गई गरीबों की योजनाओं का बंद कर दिया है। संबल जैसी महत्वाकांक्षी योजना को भी बंद कर दिया है। गरीबों को अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रूपए देते थे तो वे भी बंद कर दिए। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया, किसानों और लोगों के लिए पानी की व्यवस्था की। स्कूल, कॉलेज बनवाए हैं, लेकिन अब ये कांग्रेस की सरकार सब कुछ बर्बाद करने में लगी हुई है।

कांग्रेस ने किया शहीदों का अपमान
श्री चौहान ने कहा कि देश की रक्षा के लिए हमारे भिंड, मुरैना के नौजवान हमेशा तैनात रहते हैं। यहां के युवा बड़ी संख्या में देश की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की बाजी लगाते रहे हैं, लेकिन कांग्रेस की सरकार ने देश के और  हमारे प्रदेश के शहीदों का अपमान किया है। पाकिस्तान के सैनिक हमारे शहीद जवान का सिर कलम करके ले गए और उस शहीद के परिजन गुहार लगाते रहे, लेकिन तब की कांग्रेस सरकार उस शहीद का सर वापस नहीं ला पाई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान और उसके पाले हुए आतंकवादियों को ऐसा सबक सिखाया है कि अब वे भारत का नाम लेने में भी डरने लगे हैं। अब पाकिस्तान का पूरी तरह से सफाया करने का समय आ गया है, इसलिए श्री नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाना है। इसके लिए भाजपा को वोट देना है।

शक्तिशाली भारत का निर्माण करना है
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अब वैभवशाली, गौरवशाली और शक्तिशाली भारत का निर्माण करना है। यह काम भाजपा और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ही कर सकते हैं। कांग्रेस की सरकार में जब देश पर हमले होते थे तो इनके प्रधानमंत्री रोते थे, इनके मुंह नहीं खुलते थे, लेकिन अब देश में शक्तिशाली प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने आतंकवाद का जबाव उन्हीं की भाषा में दिया है। उन्होंने कहा कि हम कश्मीर से धारा 370 समाप्त करना चाहते हैं, लेकिन यह देशद्रोह का कानून समाप्त करना चाहते हैं।