Loading...

CTO राजेश मालवीय के घर पर लोकायुक्त का छापा | HOSHANGABAD, MP NEWS

होशंगाबाद। होशंगाबाद में कमर्शियल टैक्स ऑफिसर (Commercial Tax Officer) के घर पर लोकायुक्त का छापा, आय से अधिक संपत्ति मामले में राजेश मालवीय (Rajesh Malaviya) के होशंगाबाद और बैतूल के ठिकानों पर कार्रवाई जारी। सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी राजेश मालवीय के घर सोमवार की सुबह लोकायुक्त टीम ने छापा मारा। टीम ने तीन जगह एक साथ कार्रवाई की। जिनमें होशंगाबाद स्थित किराए का घर, कार्यालय और बैतूल स्थित पैतृक घर शामिल है। प्रारंभिक जांच में मालवीय के पास 30 लाख रुपए से अधिक का निर्माणाधीन मकान और झोले में रखे 2 लाख रुपए कैश मिले हैं। जांच पूरी होने के बाद और भी संपत्ति का खुलासा होने के आसार हैं।

लोकायुक्त डीएसपी साधना सिंह, इंस्पेक्टर संजय शुक्ला की टीम ने सुबह 5 बजे होशंगाबाद के कंचन नगर में स्थित मालवीय के किराए के मकान, कार्यालय और लोकायुक्त डीएसपी नवीन अवस्थी की टीम ने बैतूल के टिकारी क्षेत्र में स्थित मालवीय के पैतृक घर पर छापा मारा। प्रारंभिक जांच में कंचन नगर से करीब 200 मीटर दूर आफिसर्स कॉलोनी में करीब 30 लाख का निर्माणाधीन मकान मिला। जमीन के दस्तावेज मिले हैं। झोले में 2 लाख रुपए कैश मिले। जमीन के दस्तावेज मिले हैं। जिनकी जांच जारी है। 

26 को दर्ज की थी एफआईआर

इंस्पेक्टर संजय शुक्ला के अनुसार राजेश के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की शिकायत मिली थी। गोपनीय जांच में शिकायत पुख्ता होने पर उसके खिलाफ 26 मई को एफआईआर दर्ज की। रात में ही विशेष न्यायाधीश ने उसके खिलाफ सर्च वारंट जारी किए। राजेश को नौकरी करते हुए 7 साल हो चुके हैं। उसका मासिक वेतन 35 हजार रुपए है। वह विधानसभा और लोकसभा चुनाव के दौरान गठित विशेष जांच दल में भी शामिल था। कार्रवाई के दौरान मालवीय और उसके परिजन गुस्से में नजर आ रहे थे। उन्होंने मीडिया को रोका, लेकिन टीम के सदस्यों ने उन्हें शांत कर मीडिया को फोटो लेने दिए। 

बैतूल के महावीर वार्ड के टिकारी क्षेत्र में राजेश के पिता सीताराम मालवीय की मौजूदगी में लोकायुक्त टीम ने सभी कमरों और अलमारियों की तलाशी ली। हालांकि, यहां क्या मिला, इसकी टीम ने कोई भी जानकारी नहीं दी। 

सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी राजेश मालवीय के यहां सोमवार सुबह पांच बजे छापामार कार्रवाई की गई है। जांच के दौरान करीब 30 लाख का लग्जरी मकान और दो लाख रुपए कैश बरामद हुए हैं। साथ ही अन्य दस्तावेज मिले हैं। जिनकी जांच की जा रही है। 
साधना सिंह, डीएसपी, लोकायुक्त संगठन भोपाल