Loading...

कांग्रेसी नेता और उसके साथी से परेशान महिला ने CSP ऑफिस के सामने जहर खाया | INDORE NEWS

इंदौर। स्कीम नंबर 78 में रहने वाली एक महिला ने सुनवाई नहीं होने पर CSP विजय नगर के ऑफिस के सामने जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया था। उसे ऑटो चालक एमवाय अस्पताल लेकर गया था। महिला टिफिन सेंटर की संचालिका है। यह बात उसने लसूड़िया पुलिस को पूछताछ में बताई है। सूदखोरी का केस दर्ज होने के बाद सूदखोर व उसके साथी उसे केस वापस लेने के लिए धमका रहे थे। इसकी शिकायत उसने पुलिस और एसएसपी ऑफिस में की थी। सुनवाई नहीं हुई तो परेशान होकर उसने खुदकुशी का प्रयास किया। पुलिस ने महिला के बयान ले लिए हैं। जांच के बाद आगे की कार्रवाई करेगी।

लसूड़िया पुलिस के अनुसार घटना शनिवार रात करीब 10 बजे की है। अर्चना (Archana Thanage) पति मनोज ठानगे (Manoj Thanage) धमकाने वाले के खिलाफ सीएसपी ऑफिस में शिकायत करने गई थी। अधिकारी नहीं मिले और सुनवाई नहीं हुई तो उसने जहर खा लिया। इसके बाद वह बेसुध होकर जमीन पर गिर गई। ऑटो वाले ने उसे उठाया और अस्पताल ले गया। रास्ते में ऑटो चालक ने अर्चना की परिचित माया अग्निहोत्री को फोन लगाकर सूचना दी। इस पर माया सीधे अस्पताल पहुंची और अर्चना को भर्ती कराया। अस्पताल से सूचना मिलने पर पुलिस अर्चना के बयान लेने गई थी। महिला ने पुलिस को बताया कि बच्चे की फीस जमा करने के लिए उसने गुलाब डकैत से पचास हजार रुपए लिए थे। ब्याज सहित उसने रुपए लौटा दिए। इसके बाद भी रुपए देने का दबाव बनाने पर उसने गुलाब के खिलाफ शिकायत की। पुलिस केस दर्ज कर आरोपित की तलाश कर रही थी।

इसी बीच आरोपित का साथी कांग्रेसी नेता राजेश उसका पीछा करते हुए सहेली माया के घर आ गया। वहां मौजूद अर्चना को उसने केस में राजीनामा करने को कहा। मना करने पर बेटियों को उठा ले जाने की धमकी भी दी। इस बारे में अर्चना ने बताया कि उसने 4 अप्रैल को पुलिस कंट्रोल रूम में SSP से भी शिकायत की थी। इसके बाद भी नेता और उसके साथी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई।

अर्चना ने बताया कि वह टिफिन सेंटर संचालित करती है। अपने व्यवसाय के लिए उसने मीनू, नीलू, आकाश, मुकेश, रेखा व पिंकी से भी रुपए लिए थे। सभी को ब्याज सहित रुपए लौटा भी दिए। परंतु उन महिलाओं ने उधार के बदले लिए कोरे नहीं लौटाए। इसके बाद नेता के कहने पर उन महिलाओं ने कोरे चेक में रुपए भरकर बैंक में जमा कर दिए। खाते में रुपए नहीं होने से चेक बाउंस हो गए। टीआई संतोष कुमार दूधी के अनुसार महिला के बयान हो गए हैं। जल्दी की तथ्यों की तस्दीक करके कार्रवाई की जाएगी।