CBSE 12वीं बोर्ड: इन सवालों के पूरे नंबर मिलेंगे, चाहे उत्तर गलत क्यों ना हो | EDUCATION NEWS

Advertisement

CBSE 12वीं बोर्ड: इन सवालों के पूरे नंबर मिलेंगे, चाहे उत्तर गलत क्यों ना हो | EDUCATION NEWS

कक्षा 12वीं की कॉपियां चेक करने वाले मूल्यांकनकर्ताओं को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की ओर से सर्कूलर प्राप्त हुआ है. जिसमें कहा गया है कि "गणित के पेपर में आए मुश्किल प्रश्नों के लिए छात्रों को पूरे नंबर दिए जाए". सीबीएसई की ओर से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि 'linear programming' चैप्टर के छह अंकों के प्रश्न को दो अलग-अलग तरीकों से समझा जा सकता है, जिससे दो अलग-अलग उत्तर हो सकते हैं. इसीलिए छात्रों को इन प्रश्नों के पूरे नंबर मिलने चाहिए.    

सीबीएसई ने 30 मार्च को मूल्यांकनकर्ताओं को प्रश्न संख्या 29 (सेट 1 और 2), प्रश्न 27 (सेट 3) के लिए एक अलग मार्किंग स्कीम को पालन करने का निर्देश दिया. बता दें, कई छात्र छह नंबर पूरे देने के फैसले से खुश नहीं है. दिल्ली स्कूल के एक छात्र ने कहा "इस नई मार्किंग स्कीम के साथ, जिन छात्रों ने गलत आंसर दिया है उन्हें भी पूरे अंक मिलेंगे जो सही नहीं है. आपको बता दें, सीबीएसई की ओर से मूल्यांकनकर्ताओं के लिे जारी सर्कूलर की जानकारी अभी आधिकारिक वेबसाइट cbse.nic.in पर नहीं दी गई है.

मूल्यांकन प्रक्रिया के दो दिन पहले मूल्यांकनकर्ताओं को नोटिस भेज दिया गया था. वहीं एक मूल्यांकनकर्ता ने दावा किया कि लाभ सभी छात्रों तक नहीं पहुंचेगा क्योंकि नोटिस में देरी हुई थी. वहीं कई शिक्षकों का मानना ​​है कि सवाल सीधा था और छात्रों को किसी भी तरह की कंफ्यूजन नहीं होनी चाहिए.

'linear programming' के सवाल का सही जवाब

एमिटी इंटरनेशनल स्कूल, पुष्प विहार के एक गणित शिक्षक ने कहा, "जो छात्र प्रश्न पढ़ चुके हैं. उनका आंसर 350 होगा. जेनेसिस ग्लोबल स्कूल, नोएडा के गणित के शिक्षक रामनेक चावला ने कहा कि 'लाइनर प्रोग्रामिंग' के प्रश्न का सही उत्तर 350 है. इस प्रश्न का केवल एक ही उत्तर है. वहीं उनका कहना है कि गलत उत्तर के लिए नंबर देना ये सही निर्णय नहीं है.

जिन छात्रों ने इस सवाल का जवाब 60 दिया है. वे गलत हैं. क्योंकि सही उत्तर 350 है. छात्र सीबीएसई के इस फैसले से नाखुश है उन्होंने सीबीएसई 'निष्पक्ष मूल्यांकन' करने का अनुरोध किया है.

आपको बता दें, इस साल सीबीएसई की परीक्षा में कई गलतियां देखने को मिली. बता दें, कक्षा 12 के गणित के प्रश्नपत्र में, एक और छह अंक के प्रश्न (26 नंबर) ने छात्रों से अंग्रेजी में 'X-axis' के ऊपर के क्षेत्र को खोजने के लिए कहा गया, जबकि उसी सेट में हिंदी अनुवाद ने छात्रों को 'X-axis' के आसपास के क्षेत्र को खोजने के लिए कहा गया. हालांकि इस प्रश्न को लेकर भी छात्रों के बीच काफी कंफ्यूजन पैदा हुई, लेकिन अभी तक सीबीएसई की ओर से कोई नोटिस नहीं आया है.