Advertisement

कलेक्टर, TI और DEO के खिलाफ आचार संहिता की शिकायत | MP NEWS



भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने मुख्य चुनाव आयुक्त एवं मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से आचार संहिता के उल्लंघन के विभिन्न मामलों की शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की है। इनमें से एक शिकायत विधायक की बहन को दोबारा सेवा में लेने के आदेश से संबंधित हैं, तो दो शिकायतें विवादित सरकारी अधिकारियों की तैनाती को लेकर हैं।

जिला शिक्षा अधिकारी ने विधायक की बहन को नौकरी दी

चुनाव आयुक्त एवं मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की गई शिकायत में भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि भोपाल मध्य विधानसभा क्षेत्र से विधायक श्री आरिफ मसूद की बहन सालिमा परवीन क्रेम्बेज हायर सेकेण्ड्री स्कूल लोअर ईदगाह हिल्स, भोपाल से दिनांक 30/6/2018 को सेवानिवृत्त हो गई थीं। लेकिन विधायक महोदय के दबाव और प्रभाव में आकर जिला शिक्षा अधिकारी, तुलसी नगर, भोपाल द्वारा एक पत्र दिनांक 08/03/2019 को जारी कर प्राचार्य क्रेम्ब्रेज हायर सेकेण्ड्री स्कूल को निर्देशित किया गया है कि उन्हें पुनः सेवा में लिया जाए। शिकायत में कहा गया है कि आचार संहिता 10 मार्च से प्रभावी हो चुकी है, जबकि जिला शिक्षा अधिकारी ने उक्त आदेश 10/3/2019 के पश्चात पिछली तारीख में जारी किया गया है। आवक-जावक रजिस्टर और प्यून बुक के अवलोकन से स्पष्ट हो जाता है। पार्टी की ओर से जिला शिक्षा अधिकारी के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज किए जाने की मांग की गई है।

कांग्रेस नेता के भानजे को थाना प्रभारी बनाया 

पार्टी की ओर से निर्वाचन आयोग को की गई शिकायत में कहा गया है कि श्री अनिल बामनिया वर्तमान में थाना प्रभारी राजपुर जिला बड़वानी के पद पर पदस्थ हैं। श्री अनिल बामनिया धार लोकसभा के कांग्रेस पार्टी के नेता और संभावित उम्मीदार श्री गजेन्द्र सिंह राजूखेड़ी के भांजे हैं। श्री अनिल बामनिया का पूरा परिवार धार जिले के निसरपुर डही के पाडल्यिा गांव का निवासी है। कांग्रेस सरकार के आते ही बामनिया की पोस्टिंग थाना राजपुर जिला बड़वानी में कर दी गई, जिसके बाद कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने थाना प्रभारी का स्वागत किया। श्री अनिल बामनिया द्वारा थाना प्रभारी का चार्ज लेने के पश्चात कांग्रेस नेताओं के इशारे पर भाजपा पार्षद श्री हुकुम राठौर, श्री बिनूबाई दिलवारे के पुत्र शेरा दिलवारे,पार्षद श्री चंदू कुशवाह के भाई विकास एवं भाजयुमो के दीपक सिंगनाथ के भाई विजय सिंगनाथ के विरूद्ध प्रकरण दर्ज किये गये। वही थाना प्रभारी श्री अनिल बामनिया के द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं को खुलेआम धौंस दी जा रही है कि कांग्रेस के पक्ष में काम नहीं करेगे तो प्रकरण दर्ज किए जाएंगे। थाना प्रभारी बामनिया के पद पर रहते निर्वाचन प्रक्रिया के प्रभावित होने की आशंका जताते हुए पार्टी की ओर थाना प्रभारी अनिल बामनिया को तत्काल हटाने जाने की मांग की गई है।

कांग्रेस नेता के इशारे पर काम कर रहे कलेक्टर

पार्टी की ओर से प्रस्तुत शिकायत में कहा गया है कि सतना कलेक्टर सत्येंद्र सिंह पूर्व में कांग्रेस नेता अजय सिंह के गृह जिले सीधी में एसडीएम रह चुके हैं, उस समय अजय सिंह प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। कलेक्टर सत्येंद्र सिंह ने अजय सिंह के घनिष्ठ संबंध हैं। सतना में पदस्थापना के बाद से ही कलेक्टर सत्येंद्र सिंह कांग्रेस नेता अजय सिंह के इशारे पर काम कर रहे हैं। वे शासकीय कार्यक्रमों में स्थानीय भाजपा सांसद गणेश सिंह की तो उपेक्षा करते हैं, जबकि अजय सिंह जो न विधायक हैं और न ही सांसद हैं, उन्हें ससम्मान आमंत्रित किया जाता है और कार्यक्रम की अध्यक्षता कराई जाती है। दिनांक 19/2/2019 को मैहर में संत रविदास जी के संस्थान का लोकार्पण कार्यक्रम हुआ जिसमें प्रोटोकाल के विपरीत सांसद महोदय श्री गणेश सिंह को ना तो आमंत्रित किया गया और ना ही उनका कार्ड पर नाम अंकित था। आचार संहिता लगने के पश्चात भी कांग्रेस पार्टी के इशारों पर विशेषकर श्री अजय सिंह की अनुमति/सहमति से अनेक कर्मचारी/अधिकारियों के तबादला आदेश पूर्व की तारीखों में कलेक्टर द्वारा जारी किये गये। शिकायत में कहा गया है कि खुल्लम खुल्ला कांग्रेस पार्टी और उसके नेता अजय सिंह के लिए काम करने वाले अधिकारी का जिला निर्वाचन अधिकारी के रूप में पदस्थ रहना लोकतंत्र की मर्यादा के विरूद्ध है तथा ऐसे व्यक्ति की तैनाती से निर्वाचन कार्य प्रभावित होगा। अतः सतना जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर सत्येन्द्र सिंह को निर्वाचन कार्य से पृथक किया जाये।