शत्रुघ्न सिन्हा और कांग्रेस के बीच बस RJD की दूरी | NATIONAL NEWS

Advertisement

शत्रुघ्न सिन्हा और कांग्रेस के बीच बस RJD की दूरी | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। भाजपा के स्टार प्रचारक एवं मंत्री रहे वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न सिन्हा और कांग्रेस के बीच सारी बातें तय हो गईं हैं। कांग्रेस उत्साहित है कि इस चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा उनके स्टार प्रचारक होंगे और शत्रुघ्न सिन्हा उत्साहित हैं कि 2019 में वो नई भाजपा की कलई खोलकर रख देंगे परंतु इस सबके बीच आरजेडी की दूरी है। चाबी आरजेडी के हाथ में है। यदि लालू प्रसाद यादव चाहेंगे तो शत्रुघ्न सिन्हा और कांग्रेस की लव स्टोरी शुरू होगी, अन्यथा शत्रुघ्न सिन्हा अपनी पसंद बदल लेंगे। 

बिहार में सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस, आरजेडी, उपेंद्र कुशवाह की पार्टी आरएसएलपी, जीतनराम मांझी की पार्टी एसएएम (एस), मुकेश साहनी की विकासशील इंसाफ पार्टी और शरद यादव के लोकतांत्रिक जनता दल में खींचातानी चल रही है। बुधवार को 24-अकबर रोड स्थित कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि बिहार में गठबंधन होने जा रहा है। यह एक मजबूत गठबंधन होगा। घोषणा होने में देरी हो रही है, यह सही है। 

सीटों के बंटवारे को लेकर चल रही बातचीत फाइनल दौर में है। एक-दो दिन में यह घोषणा कर दी जाएगी। कांग्रेस पार्टी ने पहले 15 सीट मांगी थी। बाद में 11-12 पर सहमति बन गई। अब जो दूसरे सहयोगी दल हैं, उनमें से कोई चार-चार तो कोई पांच सीट मांग रहा है। आरजेडी की तरफ से कहा गया था कि वह 40 में से 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और बाकी सहयोगियों के लिए छोड़ दी गई हैं। 

इनमें उपेंद्र कुशवाह की पार्टी आरएसएलपी को चार, जीतनराम मांझी को तीन और शरद यादव व मुकेश साहनी को दो-दो सीटें देने की बात हुई थी। ऐसे में कांग्रेस पार्टी के हिस्से केवल 9 सीट आती हैं। अभी इसी पर बातचीत चल रही है कि कांग्रेस को कम से कम 11 सीटें तो मिलनी चाहिए।

लालू यादव तय करेंगे शत्रुघ्न सिन्हा का भविष्य... 
शत्रुघ्न सिन्हा को लेकर कांग्रेस परेशान है। वजह, पटना लोकसभा सीट है। आरजेडी इस सीट को अपने पास रखना चाह रही है तो वहीं कांग्रेस भी इस सीट पर अपना दावा जता रही है। कांग्रेस ने इतना भी कह दिया है कि अगर पटना सीट हमें मिल जाती है तो उसी वक्त शत्रुघ्न सिन्हा की कांग्रेस में ज्वाइनिंग हो जाएगी। इस बाबत आरजेडी से बात हो रही है। उम्मीद है कि वे यह सीट कांग्रेस पार्टी को दे देंगे। अगर यह सीट कांग्रेस को नहीं मिलती है तो शत्रुघ्न सिन्हा आरजेडी में जा सकते हैं। 

शत्रुघ्न सिन्हा खुद कई बार कह चुके हैं कि पटना साहेब मेरी पहली पसंद है, पटना साहेब मेरी दूसरी पसंद है और पटना साहेब मेरी आखिरी पसंद है। कांग्रेस पार्टी नेता रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि गठबंधन की घोषणा एक-दो दिन में हो जाएगी। बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल सहयोगी दलों के साथ बातचीत कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी ने कम से कम 11 सीटें मांगी हैं।