Loading...

सहायक पशु चित्किसा अधिकारियों हुए लामबंद, ग्रेड-पे विसंगति दूर करने की मांग | EMPLOYEE NEWS

भोपाल। प्रदेश भर के सहायक पशु चित्किसा क्षेत्र अधिकारियों (Assistant veterinary officers) ने रविवार को दोबारा ग्रेड-पे विसंगति (Grade pay discrepancy) में सुधार की मांग (Seeking to improve) दोहराई। इसमें प्रदेश भर के चिकित्सकों (Doctors) ने हिस्सा लिया। इनका ग्रेड-पे 2400 है, जबकि दूसरे प्रदेशों में इसी संवर्ग के चिकित्सकों को ग्रेड-पे 3600 रुपए मिल रहा है। इस बात से ये नाराज हैं और सरकार से ग्रेड-पे 2400 से बढ़ाकर 3600 करने की मांग कर रहे हैं।

राजधानी के जहांगीराबाद पशु चिकित्सालय (Veterinary hospital) में मप्र सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष बीएस वर्मा (BS Verma) ने बैठक में कहा कि ग्रेड-पे में सुधार की मांग को शासन के सामने मजबूती से रख चुके हैं। सुधार का इंतजार कर रहे हैं। संघ के संरक्षक आरपी उपाध्याय, डीके पारिख व महामंत्री सीपीएस ठाकुर (RP Upadhyay, DK Parikh and Maha Parivar CPS Thakur) ने कहा कि वे चिकित्सक मैदानी स्तर पर सेवाएं दे रहे हैं। अब सुधार को लेकर दबाव बनाएंगे। 

संघ के प्रवक्ता मुकेश रजक (Mukesh Rajak) ने बताया कि प्रांतीय बैठक में अध्यक्ष ने बीएस वर्मा ने अरुण पांडे (Arun Pandey) को जबलपुर, राजेंद्र शर्मा को उज्जैन, एलपी शुक्ला को ग्वालियर, आरएस सिसोदिया को इंदौर, यूएस पांडे को सागर और एससी नामदेव को भोपाल जिले का अध्यक्ष नियुक्त किया।