LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें





CCF मीणा ने मुक्के मारे, रेंजर ने बाल पकड़े: महिला का आरोप | MP NEWS

13 March 2019

भोपाल। अनुकंपा नियुक्ति की गुहार लगा रही महिला ने सीसीएफ बालाघाट मोहन मीणा और रेंजर परसराम मदनकर पर संगीन आरोप लगाए हैं। महिला ने बालाघाट एसपी को लिखित शिकायत की है, जिसमें आरोप लगाया है कि अनुकंपा नियुक्ति के लिए रेंजर मदनकर ने 25 हजार रुपए मांगे और पैसों का इंतजाम न होने पर आपत्तिजनक शर्त रखी। यह पत्र वन मुख्यालय भी पहुंच गया है और पुलिस के साथ वन बल प्रमुख ने भी मामले की जांच कराने का फैसला लिया है। उधर, तबादले के 24 दिन बाद भी सीसीएफ मीणा रिलीव नहीं हुए हैं। इसे लेकर भी विभाग उन पर कार्रवाई की तैयारी कर रहा है।

बालाघाट में मुख्य वनसंरक्षक (सीसीएफ) मीणा और कर्मचारियों की बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। सीसीएफ मीणा और वनरक्षक उमाशंकर गूजरकर के बीच पिछले शुक्रवार तीखी तकरार हुई थी। गूजरकर निलंबन के बाद सीसीएफ से मिलने उनके ऑफिस पहुंचे थे, वहां विवाद के बाद मामला मारपीट तक पहुंच गया। जिस महिला को केंद्र में रखकर यह घटनाक्रम हुआ था। वह अब सीसीएफ मीणा और रेंजर के खिलाफ पुलिस के पास पहुंच गई है। एसपी को सौंपी शिकायत में महिला ने आरोप लगाया है कि घटनाक्रम के दौरान बीच-बचाव में सीसीएफ मीणा ने उसका हाथ पकड़कर धक्का दिया और मुक्के भी मारे। रेंजर मदनकर ने उसका गला दबाया और बाल पकड़े।

महिला ने शिकायत में लिखा है कि बाद में सीसीएफ ने ऑफिस में बुलाया और गूजरकर की तरफ से बयान देने पर अनुकंपा नियुक्ति नहीं देने की धमकी दी। महिला ने शिकायत में नक्सलियों को सुपारी देने की धमकी देने का जिक्र भी किया है। ज्ञात हो कि इससे पहले महिला वनरक्षक रंजीता बोरकर ने सीसीएफ की शिकायत की थी।

महिला बॉडी बिल्डर ने संघर्षों के बाद पाया बड़ा मुकाम
मीणा का 16 फरवरी को भोपाल में तबादला हो चुका है, लेकिन वे अब तक रिलीव नहीं हुए हैं। यहां तक कि विवाद की स्थिति को देखते हुए वन बल प्रमुख जेके मोहंती ने पिछले हफ्ते उन्हें तत्काल रिलीव होने के निर्देश दिए थे और व्यक्तिगत रूप से तबादला आदेश भी दे दिया था। फिर भी मीणा रिलीव नहीं हुए हैं।

इसलिए हुई थी मारपीट की घटना
विभागीय सूत्रों के मुताबिक, मछुरदा बीट के वनरक्षक रहे उमाशंकर गूजरकर के दोस्त की मृत्यु हो गई। उनकी पत्नी ने अनुकंपा नियुक्ति का आवेदन लगाया है। गूजरकर इस मामले में महिला की मदद कर रहे थे। यह मदद महिला की मां को नागवार गुजरी और उन्होंने सीसीएफ मीणा से बेटी को गुमराह करने की शिकायत की। इस पर सीसीएफ ने गूजरकर को फटकार लगाई और फिर निलंबित कर दिया। इससे नाराज गूजरकर सीसीएफ से बात करने ऑफिस पहुंच गए थे।

कार्रवाई करेंगे
महिला का आवेदन मिला है। जांच करा रहे हैं। परिस्थितियों को देखते हुए मैं मीणा को रिलीव होने के लिए कह चुका हूं। आदेश भी पर्सनल भेज दिया। फिर भी वे रिलीव नहीं हुए हैं तो कार्रवाई करेंगे - जेके मोहंती, वन बल प्रमुख

हमें क्या लेना-देना
रेंजर ने क्या बोला, हमें क्या लेना-देना। घटना के समय वह महिला वहां मौजूद नहीं थी। 15 मिनट बाद आई थी और बता रही थी कि किसी ने उससे अनुकंपा नियुक्ति के लिए 50 हजार रुपए मांगे हैं। अनुकंपा का आवेदन भी एक दिन पहले ही आया था। तबादले का आदेश आज ही मिला है। 
मोहन मीणा, सीसीएफ, बालाघाट

आरोप गलत
आरोप सरासर गलत हैं। इस संबंध में मुझे बयान के लिए एसपी ऑफिस बुलाया गया था। मैंने वहां भी यही कहा है कि महिला आरोपों के प्रमाण प्रस्तुत कर दे तो मैं सजा भुगतने को तैयार हूं। 
परसराम मदनकर, रेंजर



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->