बिजली सरप्लस है तो फिर 4-4 घंटे की कटौती क्यों: कांग्रेस विधायक ने मंत्री के सामने पूछा

11 February 2019

ग्वालियर। जिला योजना समिति की पहली बैठक में रविवार को प्रदेश सरकार के मंत्रियों और कांग्रेस विधायकों ने प्रभारी मंत्री उमंग सिंघार के सामने अधिकारियों को जमकर घेरा। उन्होंने शहर की खराब सड़कों, बिजली कटौती और बिगड़ी ट्रैफिक व्यवस्था के साथ ही पोषण आहार वितरण व्यवस्था को लेकर सवाल उठाए। जनप्रतिनिधियों ने हर मामले में अफसरों की कमी गिनाते हुए कहा-अफसर या तो काम शुरू नहीं कर पा रहे हैं अथवा उन्हें फॉलो नहीं कर रहे। ऐसे में लोगों की परेशानियां लगातार बढ़ रही हैं। 

बैठक में चंबल नदी से पानी लाने के प्रोजेक्ट में बाधक विभिन्न विभागों की NOC का मामला भी उठा। इस पर प्रभारी मंत्री उमंग सिंघार ने वन विभाग के अधिकारियों को जल्द NOC जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों से कहा- मैं इस बार सारे प्वाइंट नोट करके ले जा रहा हूं, अगली बैठक तक इन पर काम हो जाए। यदि काम नहीं हुआ और लापरवाही नजर आई तो संबंधित अधिकारी पर एक्शन के लिए सीधा प्रस्ताव भोपाल भेजा जाएगा। 

किसकी क्या शिकायत, घेरे में ऐसे रहे अफसर

ट्रैफिक: खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के प्रतिनिधि देवेंद्र सिंह तोमर ने कहा- शहर की सड़कों पर ट्रैफिक लोड बढ़ने से परेशानी ही नहीं हादसे भी बढ़ रहे हैं। अधिकारी अपनी मनमर्जी से योजनाएं चला रहे हैं। 
प्रभारी मंत्री: जिला और ट्रैफिक पुलिस के साथ परिवहन विभाग के अफसर शहरी क्षेत्र में सड़कों पर सर्वे करें। हादसों के कारण का पता लगाकर उनमें सुधार किया जाए।  
बिजली: विधायक प्रवीण पाठक ने कहा- प्रदेश में बिजली सरप्लस है तो फिर शहर में 4-4 घंटे की कटौती क्यों हो रही है। ग्रामीण से भाजपा विधायक भारत सिंह कुशवाह ने उनका समर्थन किया। इस पर बिजली कंपनी के अधिकारी ने मेंटेनेंस का हवाला दिया।  
प्रभारी मंत्री: बिजली कंपनी के अधिकारी मुझे हर महीने की बिजली सप्लाई व कटौती की रिपोर्ट दें। सभी जनप्रतिनिधि मेरा मोबाइल नंबर ले लें और बिजली कटौती की जानकारी मुझ तक पहुंचाएं। बिजली पर्याप्त है। हम जनता को परेशान नहीं होने देंगे।

सड़क: विधायक मुन्नालाल गोयल ने कहा कि शहर में सड़कों की हालत खराब है। अमृत योजना के टेंडर में शर्त है कि काम खत्म करने के साथ-साथ सड़क पहले की तरह बनाई जाएगी। लेकिन कई क्षेत्रों में ऐसा नहीं हुआ। लोग परेशान हैं।   
प्रभारी मंत्री: निगम आयुक्त विनोद शर्मा ठेके की शर्त का पालन कराएं और ध्यान रखें कि मैं अगली बार बैठक लेने आऊं तो खराब सड़क व गड्ढों की शिकायत न मिले। 
पोषण आहार: महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा आंगनबाड़ियों में पहुंच रहे पोषण आहार में बहुत कमी है। विधायक श्री गोयल ने कहा कि पोषण आहार की स्थिति ऐसी है कि उसे बच्चे तो क्या जानवर भी न खाएं। 
प्रभारी मंत्री: जहां पोषण आहार सप्लाई हो रहा है वहां से बने हुए भोजन सामग्री की सैंपलिंग कराएं।
डेयरियां:  विधायक मुन्नालाल ने कहा कि डेयरियों के कारण लोग परेशान हैं। इनको शहर से बाहर ले जाने का प्लान है पर अफसर काम नहीं कर रहे। निगम कमिश्नर बोले,  पिपरौली में आरक्षित जगह पर जाने में डेयरी संचालक रुचि नहीं ले रहे। 
प्रभारी मंत्री: एक महीने में डेयरियों के लिए जगह आवंटित कर दी जाए। ध्यान रहे कि बहुत दूर डेयरी संचालकों को शिफ्ट न करें, शहर से सटे क्षेत्र में ही जगह देखें।

Rairu-Nayagaon Highway: शहरी क्षेत्र में 6 लेन पर दिया जोर: कई साल से बदहाल रायरू-नयागांव हाइवे का मुद्दा खुद प्रभारी मंत्री श्री सिंघार ने उठाते हुए PWD अधिकारियों से पूछा कि ये सड़क अब तक क्यों नहीं बन पा रही। तब कार्यपालन यंत्री बीएस गुर्जर ने बताया कि काम शुरू हो चुका है तो विधायक प्रवीण पाठक ने कहा कि कहां शुरू हुआ है गिरवाई रोड भी इसी का हिस्सा है और हालात कितने खराब हैं? वहीं देवेंद्र सिंह तोमर के सुझाव पर प्रभारी मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि प्लान को रिवाइज करके 6 लेन के लिए तैयार करें।  

JC MIL-GRASIM की जमीन पर रखें गौवंश

पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि ग्वालियर शहर की लाल टिपारा गौशाला के सभी गौवंश का सत्यापन और टैगिंग का काम कराया जाए। जेसी मिल, ग्रेसिम की जमीनें खाली हैं उनमें गाैवंश को रखा जाए।



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

;
Loading...

Popular News This Week

 
-->