Advertisement

मंदसौर गोलीकांड, पेटलावद व बालाघाट विस्फोट की फिर से जांच होगी | MP NEWS



भोपाल। मंदसौर गोलीकांड सहित पेटलावद और बालाघाट विस्फोट मामलों की फिर से जांच होगी। गृहमंत्री बाला बच्चन ने इसका ऐलान कर दिया है। बता दें कि मंदसौर गोलीकांड की जांच के लिए गठित जैन आयोग ने इस मामले में किसी को भी दोषी नहीं माना है। मंदसौर गोलीकांड में 6 किसानों की मौत हो गई थी। कांग्रेस ने कलेक्टर/एसपी सहित गोली चलाने वाले पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करने की मांग की थी। 

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा कि मंदसौर गोलीकांड की दोबारा जांच होगी। उन्होंने कह कि पेलटावद और बालाघाट विस्फोट की भी दोबारा जांच होगी। गृह मंत्री ने कांग्रेस सरकार के उस ऐलान को भी दोहराया जिसमें कहा गया कि भारत बंद के दौरान 2 अप्रैल 2018 को हुई हिंसा के मामले में फंसे निर्दोषों के केस वापिस लिए जाएंगे। 

बता दें कि मंदसौर में मध्य प्रदेश का बहुचर्चित गोलीकांड हुआ था। 6 जून 2017 को मंदसौर में हुए किसानों के हिंसक प्रदर्शन में शिवराज सरकार बैकफुट पर आ गई थी। आंदोलन में करीब छह लोगों की जान चली गई थी। हिंसा के बाद बिगड़े हालात के बाद प्रदेश में शांति स्थापित करने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उपवास किया था। आंदोलन के बाद पूरे देश खूब हंगामा मचा। मध्य प्रदेश सरकार ने आंदोलन की जांच के लिए जैन आयोग का गठन किया और एक साल बाद भी ये नहीं पता कि किसानों पर गोली किसने चलाई। किसानों पर गोली चलाने के आदेश किसने दिए। 

न्यायिक आयोग को पता करना था कि पुलिस फ़ायरिंग सही थी या नहीं। यदि नहीं तो फिर फ़ायरिंग के लिए गुनहगार कौन है। इसके बाद जैन आयोग का कार्यकाल बढ़ता रहा। अंततः जैन आयोग ने अपनी रिपोर्ट सौंपी और इसमें सीआरपीएफ के जवानों को क्लीन चिट दे दी गई थी। किसी को भी दोषी नहीं ठहराया गया।