कोलार में धूमधाम से उड़ेंगी आचार संहिता की धज्ज्यिां, उल्लंघन शुरू | BHOPAL MP NEWS - Bhopal Samachar | No 1 hindi news portal of central india (madhya pradesh)

Bhopal की ताज़ा ख़बर खोजें





कोलार में धूमधाम से उड़ेंगी आचार संहिता की धज्ज्यिां, उल्लंघन शुरू | BHOPAL MP NEWS

10 October 2018

शैलेन्द्र गुप्ता/भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में नवरात्रि महोत्सव के दौरान नेताओं ने अपने प्रचार की तैयारियां कर लीं हैं। धर्म के नाम पर मतदाताओं को लुभाने की कोशिश की जा रही है। बुधवार को मंत्री विश्वास सारंग का होर्डिंग सामने आया था। अब कोलार में उससे भी बड़ी तैयारी की जा रही है। यहां भाजपा नेता एवं इसी विधानसभा सीट से टिकट के दावेदार भगवानदास सबनानी ने गरबा का आयोजन रखा है। कार्यक्रम स्थल पर सबनानी के फोटो वाले होर्डिंग लगा दिए गए हैं। अब बस धूमधाम के साथ आचार संहिता का उल्लंघन शेष है। बता दें कि आचार संहिता के कारण भोपाल में सिटी बसों के पास तक स्थगित कर दिए गए हैं। कहा गया है कि ​इससे महापौर का प्रचार होगा जो भाजपा नेता हैं। 

कौन है भगवानदास सबनानी

भगवानदास सबनानी हुजूर विधानसभा के प्रभावशाली भाजपा नेता हैं। ये भाजपा के जिलाध्यक्ष भी रहे हैं। इस बार इसी सीट से टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। इसके चलते सबनानी पिछले 1 साल से हुजूर क्षेत्र में तेजी से सक्रिय हुए हैं। अभी भी यह सीट भाजपा के पास ही है परंतु सबनानी चाहते हैं कि प्रत्याशी को बदलकर उन्हे टिकट दिया जाए। विभिन्न समाचार पत्रों की खबरें उनकी दावेदारी की पुष्टि करतीं हैं जिनका सबनानी ने कभी खंडन नहीं किया। 

कोलार गरबा का आयोजक कौन है
कोलार में आयोजित होने वाले गरबा महोत्सव के आयोजक माँ पहाड़ावाली सेवा समिति है। यह न्यू दशहरा मैदान पहाड़ी मंदिर पर आयोजित किया जाता है। भगवानदास सबनानी इस समिति के मुख्य संरक्षक हैं। जिस तरह से वर्तमान विधायक रामेश्वर शर्मा श्रावण मास में कांवड़ यात्रा निकालते हैं, उसी तरह सबनानी गरबा का आयोजन करते हैं। दोनों कार्यक्रम राजनीति चमकाने के लिए होते हैं। दोनों कार्यक्रमों में भगवान से ज्यादा बड़े फोटो नेताओं के होते हैं। कार्यक्रम स्थल पर मौजूद बैनर, पोस्टर्स और सजावट से स्पष्ट हो जाता है कि यह धार्मिक नहीं राजनीतिक कार्यक्रम है। 

आयोजन सेवा समिति का है तो नेता पर आरोप क्यों

भगवानदास सबनानी माँ पहाड़ावाली सेवा समिति के मुख्य संरक्षक हैं। इस नाते वो आयोजन कर सकते हैं परंतु यदि मंच से उनकी पहचान भाजपा नेता या पूर्व जिलाध्यक्ष बताई जाए तो यह आचार संहिता का उल्लंघन होगा। सबनानी ने आज कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। समिति के कार्यकर्ता श्याम मीना जो खुद भाजपा नेता भी हैं। इस आयोजन की जानकारी मीडिया से साझा कर रहे हैं। उन्होंने आज जारी प्रेसनोट में बताया कि 'पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष व समिति संरक्षक माननीय श्री भगवानदास सबनानी जी ने कार्यक्रम में चल रही तैयारियो का स्थल निरीक्षण किया।' इस लाइन ने कार्यक्रम का स्वरूप धार्मिक से राजनीतिक कर दिया है। 

सबनानी के फोटो वाले होर्डिंग लग गए हैं
कार्यक्रम स्थल पर भगवानदास सबनानी के फोटो वाले होर्डिंग लगे हुए हैं। आचार संहिता के अनुसार यह उल्लंघन है। यदि धार्मिक आयोजन है तो फोटो मां दुर्गा का होना चाहिए। जो होर्डिंग पर औपचारिकता स्वरूप लगा है। पूरा होर्डिंग टिकट के दावेदार भाजपा नेता सबनानी और समर्थकों के फोटो से भरा है।

चंदा जनता और व्यापारियों ने दिया तो होर्डिंग पर समिति के फोटो क्यों

आचार संहिता से इतर एक सवाल यह भी है कि जब आयोजन के लिए चंदा आम जनता और व्यापारियों ने दिया है तो आयोजन के लिए तैयार किए जा रहे होर्डिंग्स पर समिति के पदाधिकारियों के फोटो क्यों हैं। दानदाताओं के फोटो क्यों नहीं हैं। यदि कार्यक्रम धार्मिक है तो केवल 'भगवान' का फोटो होना चाहिए। उसके बाद स्थान रिक्त बचे तो दानदाताओं का। 

क्या यह धर्म के नाम पर मतदाताओं को लुभाने का प्रयास है

चुनाव आचार संहिता के अनुसार इस तरह के आयोजन धर्म के नाम पर मतदाताओं को लुभाने का प्रयास माने जाते हैं। जो नियम विरुद्ध हैं एवं ऐसी स्थिति में आचार संहिता के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज किया जाता है। 

तो क्या नेता गरबा में भी ना जाएं

चुनाव आयोग के स्पष्ट निर्देश हैं कि आचार संहिता के प्रभावी होने के बाद नेता किसी भी धार्मिक स्थल या आयोजन में जा सकते हैं परंतु: 
वहां नेता के जिंदाबाद के नारे नहीं होने चाहिए। 
मंच से नेता की पहचान और गुणगान नहीं होना चाहिए। 
नेता कार्यक्रम स्थल पर जा सकते हैं लेकिन मंच पर नहीं जा सकते। 
नेता कार्यक्रम स्थल पर भक्तों को संबोधित नहीं कर सकते। फिर चाहे वो धार्मिक संबोधन ही क्यों ना हो। 
आयोजन स्थल पर नेताओं के फोटो नहीं लगाए जा सकते। 
आयोजन स्थल पर पार्टी का चुनाव चिन्ह या झंडे का प्रतिरूप बनाने का प्रयास नहीं किया जा सकता। 
माता की प्रतिमा को पार्टी के झंडे के रंग वाली साड़ी नहीं पहनाई जा सकती। 
इसके अलावा और भी है, कृपया आदर्श आचरण संहिता पढ़ें। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

;
Loading...

Popular News This Week

 
-->