मप्र चुनाव: 10 बड़ी खबरें | MP ELECTION TOP 10 NEWS

10 October 2018

1. कांग्रेस में 12 बार टिकट कटवा चुके यादव नेता सपा में शामिल | छतरपुर। यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश यादव ने कांग्रेस छोड़कर समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है। अखिलेश यादव के हाथों उन्होंने सपा की सदस्यता ली। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि दिग्विजय बीजेपी से मिले हुए है। वही यादव ने पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव का समर्थन करते हुए कहा कि अरुण यादव को इस तरह कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाकर यादव समाज का अपमान किया है। इसलिए यादव समाज समाजवादी पार्टी का समर्थन करेगा। कांग्रेस ने खुद मेरी 12 बार टिकट काटी है। फिलहाल यह तय नही हो पाया है कि यादव को सपा कहां से टिकिट देगी और वे विधानसभा चुनाव लड़ेगें भी या नही।

2 बिहारी मूल के प्रभात झा को पता नहीं गुजरात में हिंदियों के साथ क्या हो रहा है

सीहोर। शिवराज सिंह चोहान की जनआशीर्वाद यात्रा की तैयारियों का जायजा लेने आज भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा सीहोर पहुचे जहाँ पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि जो जितने की हैसियत रखते है सिर्फ उन्हीं को भाजपा का टिकिट मिलेगा। जब प्रभात झा से गुजरात में हो रहे हिंदीभाषियों पर हमले के बारे में पूछा तो प्रभात झा का जवाब आश्चर्यजनक था।झा ने कहा मुझे इस बारे में कोई जानकारी नही है। 

3. सबसे ज्यादा कत्लखाने मप्र में हैं, इनको लाइसेंस किसने दिए: अखिलेश यादव

भोपाल। समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने व्यापमं घोटाले को लेकर सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि व्यापम में जिसने भी आवाज उठाई उसे मौत की नींद सुला दिया गया। उन्होंने कहा कि यह अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है। सबसे खास बात तो यह है कि जिसने भी व्यापमं घोटाले के बारे में जुबान खोली वह या तो भगवान को प्यारा हो गया अथवा जेल में डाल दिया गया लेकिन तारीफ देखिए कि हमारे मुख्यमंत्री जी का बाल बांका नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा स्लॉटर हाउस मध्य प्रदेश में हैं, इनको लायसेंस किसने दिए, क्या शिवराज सिंह जवाब देंगे।

4. जन आशीर्वाद यात्रा: हाईकोर्ट ने शासन से जवाब मांगा

ग्वालियर। जनआशीर्वाद यात्रा में हुए खर्च को लेकर हाईकोर्ट ने शासन से जवाब मांगा है। याचिकाकर्ता एडवोकेट उमेश बौहरे ने मंगलवार को हाईकोर्ट में बताया कि भाजपा के प्रचार में उक्त यात्रा के लिए हर जिले में 2 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। जबकि शासन ने पक्ष रखते हुए बताया कि ऐसी कोई राशि खर्च नहीं की गई है। बौहरे ने बताया कि हमने हाईकोर्ट के समक्ष साक्ष्य प्रस्तुत किए हैं, जिनसे स्पष्ट होता है कि शासन ने हर जिले में जनआशीर्वाद यात्रा का खर्च उठाया है। हाईकोर्ट ने इस मामले में शासन से स्पष्ट जवाब मांगा है और दो दिन बाद इसकी सुनवाई की जाएगी।

5. कोर्ट में पेश हुए मंत्री गौरीशंकर बिसेन, जमानत कराई

कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन को मानहानि मामले में जमानत मिल गई है। मंगलवार को भोपाल जिला कोर्ट पहुंचकर कृषि मंत्री ने अपनी जमानत कराई। कुछ दिनों पहले एमएलए के लिए गठित स्पेशल कोर्ट ने बिसेन के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी किया था। बता दे कि 2015 में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के पूर्व अध्यक्ष संजय नगायच ने पन्ना जिला कोर्ट में बिसेन के खिलाफ मानहानि का परिवाद दायर किया था। कोर्ट ने मामला दर्ज कर भोपाल स्पेशल कोर्ट में केस ट्रांसफर कर दिया था। संजय नगायच का आरोप था कि बिसेन ने उनपर भ्रष्टाचार के झूठे आरोप लगाए हैं साथ उनके साथ अभद्रता भी की।

6. विदिशा: एसपी ने किया आचार संहिता का उल्लंघन

सीएम शिवराज सिंह चौहान के निजी प्रभाव वाले विदिशा जिले में एसपी विनीत कपूर आईपीएस पर आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगा है। कांग्रेस नेता अर्पित उपाध्याय ने आरोप लगाया है कि आचार संहिता लागू हो जाने के बावजूद पुलिस अधीक्षक कार्यालय में मंगलवार 09 अक्टूबर 2018 को जनसुनवाई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जबकि आचार संहिता के कारण इस तरह केंप और सुनवाई कार्यक्रमों पर पाबंदी है। कांग्रेस नेता अर्पित उपाध्याय ने बताया कि पुलिस अधीक्षक कार्यालय में टेंट लगाकर शिकायतें सुनीं गईं। यह पूरी तरह से एक राजनीतिक आयोजन था जो भाजपा को फायदा पहुंचाएगा। अर्पित ने इसकी शिकायत कलेक्टर विदिशा एवं निर्वाचन आयोग, भारत सरकार को भी की है।

7. आचार संहिता के नाम पर मनमानी कर रहे हैं अधिकारी: भाजपा

 भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश में लागू आदर्श आचार संहिता के नाम पर अधिकारियों द्वारा मनमानी किए जाने की शिकायत मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की है। भारतीय जनता पार्टी के चुनाव आयोग संबंधित विषयक के प्रदेश संयोजक श्री शांतिलाल लोढ़ा ने मंगलवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से भेंट कर प्रदेश के कई स्थानों में आदर्श आचार संहिता के नाम पर अधिकारियों द्वारा की जा रही मनमानी संबंधी शिकायत की। श्री लोढ़ा ने शिकायती पत्र में कहा है कि
परंपरागत रूप से धारा 144 निर्वाचन फार्म भरे जाने के दिन से लागू होती है, लेकिन प्रदेश में आचार संहिता लागू होते ही धारा 144 लगा दी गई है।
देश में कहीं भी चुनाव के कारण नगरीय परिवहन सेवा की बसों में बुजुर्ग नागरिकों और विद्यार्थियों को दिए जाने वाले रियायती पास की सुविधा बंद नहीं की जाती, लेकिन राजधानी भोपाल में आचार संहिता के नाम पर ऐसा किया जा रहा है।
पन्ना जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की पट्टिकाओं तथा प्रधानमंत्री आवास की पट्टिकाओं को भी आचार संहिता के नाम पर काला किया जा रहा है, जो नियमों की अवहेलना है।
बड़वानी में निजी वाहनों पर लगे भाजपा के झंडे-बैनर एवं दीवारों पर लिखे गए नारों को प्रशासन द्वारा मिटाया और हटाया जा रहा है। 

8. शिवराज के फोटो वाले कार्ड वापस बुलाने से गरीबों को नुक्सान होगा: भाजपा

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से कांग्रेस की ‘संबंल’ योजना के अंतर्गत जारी किए कॉर्ड वापस बुलाने की मांग को खारिज किए जाने का आग्रह किया है। इस संबंध में पार्टी की चुनाव आयोग संबंधी समिति के संयोजक श्री शांतिलाल लोढ़ा ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को एक ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन में कहा गया है कि सरकार ने यह योजना गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों के लिए शुरू की है, जिसमें रियायती इलाज, 200 रुपए प्रतिमाह की दर पर बिजली, गर्भवती महिलाओं को आर्थिक लाभ देने, बच्चों की कॉलेज फीस माफ करने जैसे प्रावधान हैं। इस योजना के हितग्राहियों को कॉर्ड दिए गए हैं, जिन पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान की तस्वीर है। कांग्रेस ने ये कॉर्ड वापस बुलाने की मांग की है। ज्ञापन में कहा गया है कि यदि ये कॉर्ड वापस बुलाए जाते हैं, तो संबंधित गरीब परिवारों को इस योजना के लाभ से वंचित होना पड़ेगा। अतरू इस संबंध में कांग्रेस की मांग को खारिज किया जाए।

9. पुल पर नारियल फोड़ने की जरूरत क्या थी


सतना। बीजेपी सांसद गणेश सिंह ने मैहर बाईपास रेलवे ओवरब्रिज का नारियल फोड़कर उद्घाटन कर दिया। फोटो वायरल होने के बाद भाजपा उनके बचाव में आ गई है। भाजपा ने कहा है कि पंडाल लगाया जाता, कार्यक्रम होता, शिलालेख लगता तो उद्घाटन समझा जाता, केवल नारियल फोड़ने को उद्घाटन नहीं समझा जाना चाहिए। यह आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है लेकिन कोई भी यह जवाब नहीं दे पाया कि पुल पर नारियल फोड़ने की जरूरत क्या थी। सरकारी पुलों का लोकार्पण नेताओं के हाथ से नारियल फुड़वाकर किया जाए ऐसा धर्मग्रंथों में तो नहीं लिखा। सांसद ने जहां नारियल फोड़ा वहां कोई देवप्रतिमा भी नहीं है और सांसद गणेश सिंह को नियमित रूप से नारियल खाने का शौक भी नहीं है। आचार संहिता लागू है। यदि पुल का शुरू करने से पहले नारियल फोड़ना ही था तो विभाग का इंजीनियर फोड़ता। सांसद क्यों।

10. एटीएम में भी पीएम मोदी की तस्वीर: कांग्रेस ने की शिकायत


देवास। आचार संहिता लागू होने के बावजूद स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के एटीएम में पीएम मोदी की तस्वीरों वाले विज्ञापन शासकीय ख़र्चे से दिखाये जा रहे हैं। मप्र के देवास जिले में कांग्रेस अध्यक्ष (शहर) द्वारा उपरोक्त की लिखित शिकायत निर्वाचन अधिकारी को दी गई है।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->