MP NEWS: ट्रेन के टायलेट में फंस गए कांग्रेस नेता चंद्रिका प्रसाद

11 September 2018

भोपाल। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी के लिए शताब्दी का सफर सजा बन गया। वे ट्रेन के टॉयलेट में ऐसे फंसे की डेढ़ घंटे की भारी मशक्कत के बाद ही बाहर निकल सके। टॉयलेट गए कांग्रेस नेता दरवाजे की चटकनी जाम होने से उसमें ही फंस गए। पहले तो उन्होंने कुछ देर दरवाजा खटखटाया जब किसी ने नहीं सुना तो उन्होंने अपने बेटे को फोन लगाया। बेटे ने रेलवे के हेल्पलाइन नंबरों पर फोन लगाए उसके बाद चंद्रिका प्रसाद को टॉयलेट का दरवाजा तोड़कर बाहर निकाला गया। 

शताब्दी एक्सप्रेस भोपाल स्टेशन से सोमवार दोपहर 3.22 बजे चली थी। इसके कोच सी-4 की सीट नंबर 33 पर चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी सफर कर रहे थे। ट्रेन विदिशा पहुंचने वाली थी, तभी वे टॉयलेट गए। उन्होंने अंदर से गेट की चटकनी लगा ली, जब बाहर निकलने चटकनी खोलनी चाही तो नहीं खुली। वे कुछ समय तक चटकनी खोलने की कोशिश करते रहे फिर गेट खटखटाया, लेकिन किसी ने नहीं सुना। परेशान होकर उन्होंने 4.20 बजे बेटे नीरज द्विवेदी को फोन किया। नीरज ने पहले रेलवे के 138 नंबर पर फोन किया, किसी ने रिसीव नहीं किया तो दूसरे टोल फ्री नंबर 1512 पर संपर्क किया और घटना की जानकारी दी।

30 मिनट बाद शाम 4.50 बजे ललितपुर जीआरपी से संपर्क हुआ। जीआरपी ने ट्रेन में चल रही तकनीकी टीम को कोच में भेजा। रेलवे के दो कर्मचारियों ने शाम 5 बजे हथोड़ी लेकर गेट खोलना शुरू किया। वे एक घंटे की मशक्कत के बाद गेट की चटकनी तोड़कर गेट खोलने में सफल हुए। तब जाकर चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी शाम 5.55 बजे बाहर निकले।

घुटन हो रही थी, बच्चा होता तो मर जाता
जब चटकनी नहीं खुली और बाहर से भी मदद नहीं मिली तो घुटन होने लगी थी। परेशान हो गया था। रह-रहकर गेट खोलने के लिए मदद मांगता रहा। किसी ने भी आवाज नहीं सुनी। रेलवे के ऐसे सिस्टम पर तरस आता है। कोई बच्चा इस तरह अंदर रहता तो मर जाता। शुक्र है मेरी जान बच गई। 
चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week