Advertisement

महिलाएं आधी रात को घूम सकें, ऐसा मध्यप्रदेश बनाऊंगा: शिवराज सिंह | MP ELECTION NEWS



भोपाल। महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को कहा है कि वह ऐसा मध्य प्रदेश बनाने की कोशिश कर रहे हैं जहां आधी रात को भी महिलाएं स्वतंत्र रूप से घूम सकें। प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित मुख्यमंत्री आवास पर महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा में अच्छा काम करने वाले पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने यह बात कही। 

मुख्यमंत्री ने कहा, 'भारत में बेटियों की पूजा होती है, उनका सम्मान करते हैं। यदि बेटियों के साथ कुछ गलत होता है तो मन व्यथित हो जाता है और बेटियों के साथ गलत काम करते हैं, उनको फांसी की सजा होना ही चाहिए। दरिंदों के लिए मानवाधिकार का कोई मतलब नहीं है। मानवाधिकार तो मानव के लिए है, पिशाचों के लिए नहीं।’ शिवराज सिंह चौहान ने पुलिसवालों की पीठ थपथपाते कहा कि दुराचारियों को सजा दिलाने में पुलिस की टीम ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, इसके पुलिस टीम बधाई की पात्र है। 

इस समारोह में महिलाओं और बालिकाओं की सुरक्षा में अच्छा काम करने वाले पुलिसकर्मियों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्मानित किया। इस दौरान महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध में गुनहगार को सजा दिलाने वाले सरकारी वकीलों के साथ इन मामले में करने में वैज्ञानिक सहायता प्रदान करने वाले ग्वालियर, इंदौर, धार, सागर, शहडोल, मंदसौर, दमोह, सतना के अधिकारियों को भी सम्मानित किया गया। 

फिलहाल सबसे ज्यादा महिला अपराध मध्यप्रदेश में
बता दें कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के अनुसार साल 2017 में देश भर में महिलाओं के साथ रेप की दर्ज की गई 28,947 घटनाओं में से 4882 घटनाएं सिर्फ मध्य प्रदेश में ही दर्ज हुई हैं। वहीं 4816 दर्ज घटनाओं के साथ उत्तर प्रदेश देश में दूसरे और 4189 घटनाओं के साथ महाराष्ट्र तीसरे स्थान पर रहा था। साथ ही नाबालिग बच्चियों के साथ रेप की घटनाओं के मामले में भी मध्य प्रदेश देश में पहले स्थान पर रहा था। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com