राहुल गांधी का GK कमजोर: BHEL से सेलफोन खरीदने की कह गए | POLITICAL NEWS

11 August 2018

RAIPUR: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कई बार कुछ ऐसा कर गुजरते हैं जो उनकी शख्सियत पर सवालिया निशान खड़ा कर देता है. आमतौर पर भाषण के दौरान नेताओं की जुबान फिसलना आम बात है, लेकिन राजनीति के शिखर पुरुषों की जुबान फिसले तो किए धरे पर पानी फिरना लाज़मी है. फिसली हुई जुबान से निकला शब्द अक्सर समाचार बन जाता है. ऐसा ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ हुआ.

राहुल गांधी ने शुक्रवार को रायपुर में धुआंधार भाषण दिया. इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार, प्रधानमंत्री मोदी और राज्य के सीएम पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने आक्रामक शैली में भाषण देकर बीजेपी को सकते में डाल दिया. राजनैतिक पंडित मान बैठे कि राहुल बाबा ने विधानसभा चुनाव का बिगुल फूंक दिया है, लेकिन जैसे-जैसे वक्त गुजरा वैसे ही बीजेपी का राजनैतिक गलियारा भी गर्माने लगा. बीजेपी खेमे ने राहुल गांधी के भाषण से अचानक एक ऐसा वाक्य खोज निकाला जो राहुल गांधी की जनरल नॉलेज पर सवाल खड़ा करने के लिए काफी है.

राहुल गांधी ने अपने अंदाज में एक के बाद एक मुद्दों पर उन्होंने बीजेपी, प्रधानमंत्री मोदी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह पर तीखा प्रहार किया. आखिर में उन्होंने ऐसे मुद्दे को छेड़ा जो अब उनके गले की फांस बनता जा रहा है. राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री रमन सिंह की स्मार्ट फोन योजना को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उन्होंने सेल फोन BHEL से क्यों नहीं ख़रीदा. एक नहीं दो बार राहुल गांधी ने मोबाइल खरीदी के लिए BHEL का नाम लिया. उन्होंने कहा कि एक तरफ राफेल घोटाला और इस तरफ सेल फोन घोटाला.

इस बयान के बाद राहुल गांधी बीजेपी ही नहीं बल्कि आम वोटरों के निशाने पर आ गए हैं. सोशल मीडिया में वो अपने इस बयान को लेकर जमकर ट्रोल हो रहे हैं. कांग्रेस के कई कार्यकर्ता भी राहुल के इस बयान पर उन्हें तंज कस रहे हैं. वहीं दूसरी और बीजेपी को बैठे बिठाए राहुल गांधी ने एक बड़ा मुद्दा थमा दिया है. दरअसल, BHEL भारी मशीनरी बनाता है ना की सेल फोन.

अपने बयान पर ट्रोल हुए राहुल गांधी

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल गांधी के BHEL वाले बयान पर कहा कि यह राजनैतिक समझ उस राजनेता की है, जो प्रधानमंत्री बनने का ख्वाब देखता है. मुख्यमंत्री रमन सिंह ने भी राहुल गांधी के बारे में कहा कि ना तो उन्हें राजनीति की समझ है और ना ही देश के बारे में कोई ज्ञान है. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी ने तंज कसते हुए कहा कि राहुल गांधी पार्टी में पैराशूट राजनीति पर लगाम लगाने की बात कहते हैं, लेकिन वे खुद पैराशूट से कांग्रेस में उतरे हैं. वहीं छत्तीसगढ़ बीजेपी प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि राहुल गांधी ना तो गंभीर नेता हैं और ना ही उनकी सकारात्मक सोच है. किसी ने भी उन्हें जो बताया बगैर उसकी पड़ताल किए वो तथ्य जनता पर लाद देते हैं.

फिलहाल सेल फोन का निर्माण न तो BHEL करता है और ना ही बीएसएनएल. जानकारी जुटाने पर पता चला कि दोनों ही कंपनियों की भविष्य में सेल फोन निर्माण की कोई योजना भी नहीं है. ऐसे में राहुल गांधी किस BHEL कंपनी का जिक्र कर रहे थे ये उन्हीं को पता होगा. फिलहाल तो वे अपनी इस फिसली जुबान को लेकर अपने विरोधियों के निशाने पर हैं.

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->