MLA कटारे का भाई: अस्पताल में तोड़फोड़, स्टाफ बंधक, CCTV तोड़े | MP NEWS

07 July 2018

भोपाल। माखनलाल यूनिवर्सिटी की एक छात्रा के विवाद में घिरे कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे अब एक नए झंझट में फंस गए हैं। आईएसबीटी स्थित पॉलीवाल हास्पिटल को खाली कराने के लिए उन्होंने कानूनी प्रक्रिया अपनाने के बजाए माफियागिरी के तरीकों का उपयोग किया। उनका भाई योगेश कटारे कुछ बदमाशों को साथ लेकर सुबह 8 बजे पॉलीवाल हास्पिटल में आ धमका और तत्काल अस्पताल खाली करने के लिए कहने लगा। वहां तोड़फोड़ की गई। स्टाफ को बाहर नहीं निकलने दिया गया। सीसीटीवी कैमरे तक तोड़ दिए गए। मरीजों में दहशत पसर गई। पुलिस भी मौके पर आई परंतु विधायक की दबंगाई जारी थी। 2 घंटे बाद हालात सामान्य हो सके। 

फिल्मी स्टाइल में आया YOGESH KATARE बोल, चलो अस्पताल खाली करो

खबर मिल रही है कि शुक्रवार सुबह करीब 8 बजे हेमंत कटारे के छोटे भाई योगेश कटारे अपने समर्थकों के साथ पहुंच गए। सुबह का समय होने के कारण डॉक्टर राउंड पर थे। योगेश अपने साथियों के साथ अस्पताल खाली कराने पहुंचे थे। इससे अस्पताल में पहले से भर्ती मरीजों के परिजनों में दहशत फैल गई। परिजन डॉक्टरों से बातचीत करने का प्रयास करते रहे, लेकिन किसी को संतोषजनक जवाब नहीं मिला। सुबह करीब 10 बजे तक अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल रहा। हंगामा बढ़ने और पुलिस के दखल पर योगेश अपने समर्थकों के साथ वहां से रवाना हो गया। 

स्टाफ को बंधक बनाया, CCTV कैमरे उखाड़े,  DVR भी ले लिया: Dr. JP PALIWAL

हेमंत कटारे ने अगस्त में बिल्डिंग खाली करने का नोटिस दिया था। बिल्डिंग खाली नहीं करने पर याेगेश दबाव बना रहा था। उनका कहना था का अनुबंध 2019 तक का है। इस हिसाब से 90 लाख रुपए किराया बनता है। उसे चुकाओ और बिल्डिंग खाली कर दो। शुक्रवार को उन्होंने अस्पताल में घुसकर तोड़फोड़ की। सीसीटीवी कैमरे उखाड़ दिए। डीवीआर ले लिया। योगेश ने सुबह 8 से 10 बजे तक अस्पताल के कर्मचारियों को बंधक बनाकर रखा। इससे मरीजों को परेशानी हुई। इसकी शिकायत गोविंदपुरा थाने में की थी। 
डॉ.जेपी पालीवाल, डायरेक्टर, पॉलीवाल अस्पताल 


हमने किसी को परेशान नहीं किया: MLA HEMAT KATARE

हमने ऐसा कोई काम नहीं किया, जिससे मरीजों को परेशानी हो। सभी आरोप झूठे हैं। डॉ. पॉलीवाल ने करीब छह महीने से किराया नहीं दिया है। यह करीब 90 लाख रुपए बनता है। हमने उनसे यह रुपए देने की बात कही थी। उन्हें नोटिस भी दिया था। पुलिस में इसकी दो महीने पहले शिकायत की थी। एग्रीमेंट के मुताबिक लगातार तीन माह तक किराया न देने पर एग्रीमेंट स्वत: रद्द हो जाता है। हमने न तो तोड़फोड़ की और न ही मरीजों को परेशानी होने दी। 
हेमंत कटारे, कांग्रेस विधायक 

हम जांच कर रहे हैं: एएसपी

विधायक हेमंत कटारे और डॉ. पॉलीवाल के बीच किराए को लेकर विवाद था। दोनाें पक्षों में दोपहर में बातचीत के बाद सुलह हो गई है। डॉ.पॉलीवाल ने अस्पताल में तोड़फोड़ और हंगामे की शिकायत की है। इसकी हम जांच कर रहे हैं।
विकाश शाहवाल, एएसपी जोन-2 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week