भारत में महिलाओं को सीरिया से भी ज्यादा यातनाएं दी जातीं हैं :TRF की सर्वे रिपोर्ट

26 June 2018

नई दिल्ली। भारत को शर्मसार करने वाली खबर आ रही है। थॉमसन रॉयटर्स फांउडेशन के 500 से ज्यादा विशेषज्ञों ने दुनिया भर के देशों का अध्ययन करने के बाद पाया है कि भारत में महिलाओं के प्रति यौन हिंसा की घटनाएं सबसे ज्यादा होतीं हैं। यहां महिलाओं को युद्धग्रस्त देश सीरिया से भी ज्यादा यातनाएं दी जा रहीं हैं। 2011 में अफगानिस्तान, कॉन्गो और पाकिस्तान इस श्रेणी में सबसे आगे थे परंतु इस बार भारत महिलाओं के प्रति सबसे क्रूर देश की सूची में टॉप पर है। 

महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश


थॉमसन रॉयटर्स फांउडेशन के एक सर्वे के मुताबिक महिलाओं के प्रति यौन हिंसा और सेक्स धंधों में धकेले जाने के आधार पर भारत को महिलाओं के लिए खतरनाक बताया गया है। सर्वे में भारत को महिलाओं के लिए युद्धग्रस्त सीरिया और अफगानिस्तान से भी ज्यादा खतरनाक बताया गया है। 550 विशेषज्ञों के द्वारा किए गए इस सर्वे में महिलाओं के प्रति यौन हिंसा के खतरों के लिहाज से एक मात्र पश्चिमी देश संयुक्त राष्ट्र अमेरिका है। 

6 साल में तेजी से बढ़े यौन हिंसा के मामले


2011 में हुए इस सर्वे के मुताबिक अफगानिस्तान, कॉन्गो, पाकिस्तान, भारत और सोमालिया महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक देश माने गए थे। लेकिन इस साल महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों के मामले में भारत आगे निकल गया और साबित हो गया कि छह साल पहले हुए निर्भया कांड के कड़े विरोध और प्रदर्शन के बावजूद महिलाओं की सुरक्षा के लिए भारत में अभी तक पर्याप्त काम नहीं किये गए।

2007 से 2016 के बीच 83 प्रतिशत का इजाफा


सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2007 से 2016 के बीच महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध में 83 फीसदी का इजाफा हुआ है। साथ ही हर घंटे में 4 ऐसे मामले दर्ज किए जाते है। सर्वे के मुताबिक, भारत मानव तस्करी और महिलाओं को सेक्स धंधों में धकेलने के लिहाज से अव्वल है। रॉयटर्स के मुताबिक, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने इस सर्वे के परिणामों पर कुछ भी कहने से इनकार किया। इसी तरह की खबरें नियमित रूप से पढ़ने के लिए MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts