इंदौर| बॉक्स में बंद मिला महिला का शव, जिसने ठिकाने लगाया उसी ने बताया

30 June 2018

इंदौर। बाणगंगा थाना क्षेत्र से 24 जून को लापता हुई विवाहिता सपना लोधी का शव मिला है। पुलिस ने इस मामले में केवल गुमशुदगी दर्ज की थी। पुलिस के हाथ कोई सूत्र नहीं ​लगे। जिस युवक ने शव को ठिकाने लगाने में मदद की उसी ने थाने आकर बताया कि विवाहित महिला की हत्या हो गई है एवं शव बॉक्स में रखकर कुएं में फैंक दिया गया है। पुलिस ने सूचना देने वाले युवक को आरोपी दर्ज करते हुए गिरफ्तार कर लिया है। निरीक्षक एसएल बौरासी ने बताया कि शुक्रवार सुबह बंटी नामक युवक ने एसटीएफ कार्यालय आकर बताया कि वह चार दिन से लापता एक महिला के बारे में अहम जानकारी देना चाहता है। उसकी हत्या कर दी गई है। शव को बॉक्स में भरकर कुएं में फेंक दिया है। वारदात में वह भी शामिल था। इस कबूलनामे से अफसर चौंक गए। टीम बंटी को उस जगह ले गई जहां शव फेंकना बताया गया। ग्रामीणों और फायर ब्रिगेड की मदद से बॉक्स को निकालकर खोला गया तो गोविंद नगर खारचा निवासी सपना लोधी का शव निकला। उसका गला घोटा गया था। पुलिस ने तुरंत बंटी को हिरासत में लिया और बाणगंगा पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

24 जून को हुई थी लापता, घर में संघर्ष के निशान

प्रधान आरक्षक राकेश के मुताबिक सपना का पति भूपेंद्र वेल्डिंग करता है। भूपेंद्र ने बताया कि सपना प्लास्टिक फैक्टरी में काम करती थी। 18 जून को बच्चों को लेने तरावली गया था। 24 जून को रात करीब 12 बजे तक पत्नी से बात हुई थी। फिर उसका फोन बंद हो गया। घर आया तो ताला लगा था। ताला तोड़कर अंदर घुसा तो सारा सामान अस्त-व्यस्त मिला। अलमारी से सामान गायब था। घर में संघर्ष के निशान थे। तत्काल थाने पहुंच घटना बताई। 

पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर औपचारिकता पूरी कर ली थी

उसने कहा था कि तल मंजिल पर रहने वाले सुनील और उसकी पत्नी बबीता पर शक है। दोनों फरार हैं। पुलिस गुमशुदगी दर्ज कर महिला को ढूंढने का प्रयास करती रही। भूपेंद्र भी रिश्तेदारों की मदद से सुनील और बबीता की तलाश में जुट गया। कुछ लोगों ने बताया कि दोनों को 25 जून को तड़के 4 बजे ऑटो रिक्शा से जाते देखा था। दोनों लोहे का संदूक लेकर जा रहे थे। उसमें से महिला के कपड़े दिख रहे थे। पूछा तो कहा कि मां के क्रियाकर्म के लिए जा रहा है। मां के कपड़े भरे हैं। 

कुएं के करीब ले जाकर बोले- संदूक में शव है

बंटी ने बताया कि वह सुनील का चचेरा भाई है। कुछ दिन पहले सुनील की मां की मौत हुई थी। उसने कहा कि वह क्रियाकर्म के लिए जा रहा है। पहले शव क्षिप्रा में फेंकने गया लेकिन पुलिस चेकिंग देख लौट आया। फिर कंपेल गया और कुएं के पास ले जाकर खड़ा कर दिया। उसने बंटी से कहा कि इसमें महिला का शव है। बंटी ने शव ठिकाने लगाने से इनकार किया तो सुनील ने धमकाया। सुनील और बबीता की गिरफ्तारी अभी बाकी है। पूरी कहानी इसी के बाद पता चल सकेगी। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts