कविता हत्याकांड: क्या 9 अवार्डी पुलिस अधिकारियों को सजा दी जाएगी

22 May 2018

इंदौर। कविता हत्याकांड एक बार फिर वहीं पर आकर खड़ा हो गया है जहां 24 अगस्त 2015 को था। कविता रैना का हत्यारा कौन ? पुलिस ने जिस महेश बैरागी को हत्यारा बताते हुए कोर्ट में पेश किया था वो निर्दोष निकला। कोर्ट ने उसे बरी कर दिया है। बता दें कि कविता हत्याकांड को सुलझाने के बदले पुलिस अधिकारियों का अवार्ड दिए गए थे। अब जबकि उनका दावा गलत साबित हुआ है तो क्या ऐसे अधिकारियों को दंडित किया जाएगा जिन्होंने एक निर्दोष को हत्यारा बताकर करीब पौने तीन साल तक उसकी जिंदगी बर्बाद कर दी और कविता रैना को भी न्याय नहीं दिया। 

9 अधिकारियों को किया था पुरस्कृत, DIG ने टीम का नेतृत्व किया था

बता दें कि इस हत्याकांड को सुलझाने के बदले पुलिस विभाग के 9 अधिकारियों को 26 जनवरी 2016 की परेड में पुरस्कृत किया गया था। 9 दिसंबर 2015 को पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर महेश बैरागी को हत्यारा घोषित कर दिया। मामले में चालान 7 मार्च को पेश किया गया लेकिन पुलिस को अपनी जांच पर इतना भरोसा था कि चालान पेश होने से पहले ही, 26 जनवरी की परेड में तत्कालीन प्रभारी मंत्री उमाशंकर गुप्ता के हाथों स्टाफ के 9 लोगों को पुरस्कृत करवा दिया गया। 26 जनवरी को तत्कालीन प्रभारी मंत्री उमाशंकर गुप्ता द्वारा जब कविता हत्याकांड में उत्कृष्ट कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को पुरस्कृत किया गया था, तब समारोह में इस जांच का नेतृत्व करने वाले तत्कालीन डीआईजी संतोष कुमार सिंह के चेहरे पर भी इस केस की सफलता की मुस्कान थी।

इन पुलिस अधिकारियों को किया था पुरस्कृत

क्राइम ब्रांच के एसआई अशोक सिंह चौहान, एसआई श्रद्धा यादव, एएसआई उमाशंकर यादव, प्र.आर. बलवंत सिंह इंगले, आर. योगेन्द्र चौहान, आर. मनीष तिवारी, भंवरकुआं थाने के एएसआई रविराज सिंह बैस, प्र.आर. मनोज पांडे व आर. भास्कर को पुरस्कार दिए गए।

क्या पुरस्कृत अधिकारियों को सजा दी जाएगी

अब जबकि कविता रैना हत्याकांड में पुलिस की जांच गलत साबित हो गई है तो क्या एक निर्दोष नागरिक को पौने तीन साल तक परेशान करने और कविता रैना हत्याकांड में गलत जांच कर पुरस्कार प्राप्त करने वाले अधिकारियों को सजा दी जाएगी। सारा इंदौर एक बार फिर यह जानना चाहता है कि क्या पुलिस कविता रैना के हत्यारे को कभी पकड़ पाएगी। 

लापरवाह पुलिस अधिकारियों को सजा दी जाएगी

डी आईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कविता रैना हत्याकांड में कोर्ट के फैसले की बारीकी से हर स्तर पर समीक्षा की जा रही है। पूरे मामले में जिन पुलिसकर्मियों की भी लापरवाही सामने आएगी, उन्हें सजा जरूर दी जाएगी। इनमें वह पुलिसकर्मी भी शामिल हो सकते हैं, जिन्हें गणतंत्र दिवस पर पुरस्कृत किया गया था।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week