बिना शिवराज के चुनाव लड़ा तब भी भाजपा की हार सुनिश्चित: ओपिनियन पोल

Monday, May 14, 2018

भोपाल। कांग्रेस ने सांसद कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष तो सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया है। इसी प्रकार भाजपा ने सांसद राकेश सिंह को प्रदेश अध्यक्ष तो केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया है। सीएम कैंडिडेट की घोषणा दोनों पार्टियों ने नहीं की है। ऐसी स्थिति में यदि अभी वोटिंग हो जाए तो क्या होगा। भोपाल समाचार डॉट कॉम के आॅनलाइन ओपिनियन पोल में जनादेश कांग्रेस के पक्ष में गया है। 66 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वो कांग्रेस को वोट करेंगे जबकि 33 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वो भाजपा को वोट करेंगे। 

क्यों आयोजित किया गया यह ओपिनियन पोल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्पष्ट कर दिया कि मप्र में कांग्रेस की ओर से कोई सीएम कैंडिडेट नहीं होगा। माना जा रहा था कि मुकाबला शिवराज सिंह और कांग्रेस के बीच होगा परंतु पिछले दिनों भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी ऐलान कर दिया कि मप्र में भाजपा संगठन चुनाव लड़ेगा। यानि शिवराज सिंह ​भाजपा का चेहरा नहीं होंगे। अब सवाल यह उठता है कि शिवराज सिंह को पीछे धकेल देने से भाजपा को फायदा होगा या नुक्सान। इसीलिए यह आॅनलाइन ओपीनियन पोल का आयोजन किया गया। 

ओपिनियन पोल क्या नतीजे आए

ओपिनियन पोल में 66 प्रतिशत लोगों ने कांग्रेस को वोट किया जबकि 33 प्रतिशत लोगों ने भाजपा के पक्ष में वोट किया। इस ओपिनियन पोल में कुल 110022 लोगों ने भाग लिया। यह एक रेंडम ओपिनियन पोल था जो फेसबुक के तकनीकी सहयोग से आयोजित किया गया। यह पूरी तरह से ओपन ओपिनियन पोल था, जिसमें वोटर्स को लाइव रिजल्ट्स दिखाई दे रहे थे। इसमें किसी भी प्रकार की मिलावट या गड़बड़ी की संभावना ही नहीं थी। 

कुछ महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाएं जिन्हे जनता ने सबसे ज्यादा पसंद किया

Rajendra Raghuwanshi Vidrohi: 
बात भाजापा की नहीं है बात घमंड की है भाजापा का छोटा से छोटा और छोटू भैया और हर बड़ा नेता रावण से भी ज्यादा घमंडी हो चुका है। इसलिए घमंड को हराने के लिए मैदान में आना बहुत जरूरी है। 
प्रशांत सिंह बघेल धिरौल: 
चेहरा हो ना हो किसी पार्टी पे हम बस इतना जानते है अब की बार कॉग्रेस की ही सरकार बननी चाहिए। मप्र पे नहीं तो मामा और अमित शाह मप्र के किसान व्यापारियों युवाओ बेरोजगार ये सब चीज से ध्यान हटाने के लिए पुराना रवैया ही अजमाते रहेंगे। गाय गोबर मंदिर मस्जिद इसके अलावा इन्हे कुछ नहीं दिखता। हकिकत ये है ये कुछ काम नहीं कर सकते। जनता का ध्यान भटकाने के लिए बस दंगा कराने की सोचते रहते है...।
J.S. Kaushal 
मोदी और अमीतशाह के जूमलों कि वजह से मध्यप्रदेश सरकार तो ठीक लोकसभा भी काँग्रेस की सरकार बनेगी। मोदी और अमीतशाह बीजेपी को ले डूबेंगे। बीजेपी की भैस तो गई जीएसटी डीजल ..पेट्रोल में॥

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week