राहुल गांधी किसानों के बाद अब दलितों की राजनीति करेंगे | NATIONAL NEWS

16 April 2018

नई दिल्ली। सबको पता है कि राहुल गांधी ने अपनी राजनीति की पाठशाला किसान राजनीति से शुरू की थी। वो अब भी किसानों की राजनीति का कोई अवसर नहीं छोड़ते लेकिन अब वो दलितों की भी राजनीति करेंगे। 2019 लोकसभा चुनाव को अब एक साल ही बचा है। इसी एक साल में पहले कर्नाटक और फिर मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ जैसे अहम राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन सभी राज्यों में कांग्रेस और बीजेपी कमोबेश सीधे मुकाबले में हैं। ऐसे में साफ है कि इन राज्यों में चुनाव को भी कांग्रेस 2019 लोकसभा चुनाव की फाइनल जंग से पहले सेमीफाइनल के तौर पर ही ले रही है।

पार्टी को फायदा मिलने की आस
कांग्रेस का मानना है कि इन राज्यों के चुनावों में पार्टी बेहतर प्रदर्शन करने में सफल रहती है तो 2019 की निर्णायक लड़ाई में उसका बहुत फायदा मिलेगा. राहुल ने कांग्रेस महाधिवेशन में पार्टी कार्यकर्ताओं को जनता के हक की लड़ाई के लिए सड़कों पर उतरने की हुंकार भरी थी. राहुल ने महाधिवेशन में बीजेपी को कौरव और कांग्रेस को पांडव बताकर कार्यकर्ताओं से सियासी रण में निकलने का ऐलान किया था. पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सक्रिय बनाए रखने के लिए कांग्रेस ने आगे का अपना प्लान भी जाहिर कर दिया है.

दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से 23 अप्रैल को कांग्रेस के ‘मिशन 2019’ की शुरुआत हो रही है. इस दिन पार्टी ने बड़ा दलित सम्मेलन बुलाया है, यहां से राहुल गांधी 'संविधान बचाओ' अभियान का ऐलान करने वाले हैं. दरअसल, इसके जरिए कांग्रेस एक तरफ दलित वोटबैंक को साधना चाहती है, तो दूसरी तरफ हाल में एससी-एसटी एक्ट को लेकर अदालत के फैसले पर भी सरकार पर दबाव बढ़ाना चाहती है.

कांग्रेस ने एससी-एसटी एक्ट के मुद्दे पर ही मोदी सरकार से अध्यादेश (ऑर्डिनेन्स) लाने की मांग की हैं. इस विषय पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी के दलित चेहरों में से अहम माने जाने वाले पीएल पुनिया का कहना है कि केंद्र सरकार दलित विरोधी है वरना अब तक उसको आर्डिनेन्स ले आना चाहिए, पार्टी ने इसीलिए दलित सम्मेलन को ‘संविधान बचाओ’ से जोड़ा है.

दलित और किसानों पर कांग्रेस का फोकस
कांग्रेस अपने ‘मिशन 2019’ के लिए दलितों, किसानों और नौजवानों पर खास फोकस रखना चाहती है. इसीलिए दलित सम्मेलन के बाद पार्टी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में बड़ी रैली की भी तैयारी की है. रैली को सफल बनाने के लिए पार्टी के संगठन महासचिव ने सभी प्रभारियों की बैठक बुला कर भीड़ जुटाने की ज़िम्मेदारी दी है. खासतौर पर दिल्ली से सटे हरियाणा जैसे राज्यों को पूरी ताकत झोंकने के लिए कहा गया है. हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने दावा किया है कि रैली में दलित, किसान और नौजवान बड़ी संख्या में हिस्सा लेंगे.

माना जा रहा कि ये ‘मिशन 2019’ के लिए कांग्रेस के प्लान का आगाज़ है. पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत कहते हैं, ‘देश के लोग मोदी सरकार को बदलने का मन बना चुके हैं. किसान, गरीब, दलित, नौजवान सभी नाराज़ हैं.
कांग्रेस की कोशिश यही है कि चुनावी साल में चुनावी महाभारत के लिए बिगुल फूंके जाने के बाद पार्टी के कार्यकर्ता रूपी योद्धा अपना दमखम दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़े. 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts