इस बार या तो “दिग्विजय” या “बंटाढार” | EDITORIAL

28 April 2018

राकेश दुबे@प्रतिदिन। कांग्रेस हाईकमान ने मध्यप्रदेश कांग्रेस में जिस तरह से ओहदे बांटे हैं उससे प्रदेश कांग्रेस से ज्यादा प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के नेता खुश हैं। एक सर्वेनुमा ओपिनियन पोल ने भी उनके मनोबल को बडा कर दिया है। भाजपा नेता यह मानने लगे है की चौथी बार वे प्रदेश के चारों कोनों से जीतेंगे और यह चौथी विजय उन्हें सर्वत्र विजय अर्थात “दिग्विजय” का तमगा दे देगी। इसके विपरीत स्वतंत्र प्रेक्षक कुछ और ही अनुमान लगा रहे हैं। स्वतंत्र प्रेक्षकों के पास गांवों का सर्वे है, भाजपा के पक्ष में आये ओपिनियन पोल का आधार शहरी मालूम होता है। ये सर्वे वैसा ही है जैसा कांग्रेस के “दिग्विजय-काल ”में  था, तत्कालीन मुख्यमंत्री को अपनी सोशल इंजीनियरिंग पर इतना भरोसा था कि वे मतदान बाद भी मध्यप्रदेश पुलिस की इंटेलिजेंस के आंकड़ों को सही मान रहे थे और “बंटाढार” हो गया था। 

तब कांग्रेस अति आत्मविश्वास में थी, अब भाजपा। तब कांग्रेस सब में से सब जीतने की बात कर रही थी अब भाजपा के नव नियुक्त अध्यक्ष “इस बार दो सौ पार” की बात कह रहे हैं। वैसे अभी कोई भी दावा ठीक नहीं है, मतदाताओं की मर्जी भी कुछ होती है और उसके निर्णय ही सरकार बनाते बिगाड़ते हैं।

प्रदेश कांग्रेस में पिछले कुछ सालों से लीडर का अभाव था। किसी को वय में छोटा मान, किसी को अनुभव में कम मान, पिछले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों को पूरा समर्थन नहीं मिला। इस बार दिग्विजय सिंह मुख्य भूमिका में नहीं दिख रहे हैं, लेकिन अरुण यादव ने इस बार दिग्विजय सिंह की राह का अनुसरण करते हुए चुनाव न लड़ने की बात कही है। वे सन्गठन का काम करना चाहते हैं, कितनी गंभीरता से कर पाएंगे, एक सवालिया निशान है। कांग्रेस हाई कमान होश और जोश को साधने की कोशिश की है। अरुण यादव को लम्बे समय से बदलने की बात चल रही थी। रोशनपुरा स्थित कांग्रेस कार्यालय से कांग्रेस को गायब करने का तमगा उनके सर लग गया। भोपाल शहर के पुराने कांग्रेसियों को वह संघर्ष याद है रोशनपुरा का कार्यालय कैसे बचा था। अब जवाहर भवन बाज़ार हो गया है। पार्टी कार्यालय नहीं।

चुनाव की दहलीज पर खड़े मध्यप्रदेश में तीसरी ताकत नहीं है। किसी एक कौने से ज्यादा, उनकी ताकत कहीं दिखती नहीं है। कांग्रेस ने होश-जोश का नया फार्मूला आगे किया है तो भाजपा भी कमर कसती दिखती है, प्रदेश कार्यालय में कम मुख्यमंत्री निवास जोरों से तैयारी शुरू हो गई है। किसान वर्ग जिसकी नाराजी की खबरें प्रदेश के कौनों से आ रही है, उन्हें मनाने के लिए श्रीमती साधना सिंह का एक आडियो कैसेट वायरल हुआ है। वे किसान एकता के गीत गा रही है। चुनाव के लिए राजनीतिक दलों के प्रयास अनुनय विनय पर मतदाता की मुहर सर्वोपरि होती है। यह मुहर किसी को “दिग्विजयी” बना सकती है, तो किसी का “बंटाढार” कर सकती है। समय है, अभी।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

कृपया ओपिनियन पोल में हिस्सा लें। भोपाल समाचार को ट्वीटर पर फालो करें @BhopalSamachar

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week