66% पब्लिक बोली, मप्र में दिग्विजय सिंह नहीं चाहिए | SURVEY REPORT

Thursday, April 12, 2018

भोपाल। मध्यप्रदेश के लोकप्रिय हिंदी न्यूज पोर्टल भोपालसमाचार.कॉम द्वारा फेसबुक के सहयोग से आयोजित आॅनलाइन सर्वे में 66% जनता ने मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को खारिज कर दिया है। बता दें कि नर्मदा परिक्रमा के समापन अवसर पर दिग्विजय सिंह ने कहा था कि वो मध्यप्रदेश में कांग्रेस की मुख्यधुरी बनने को तैयार हैं। कांग्रेस को एकजुट रखने लिए सक्रिय होंगे। लोगों का कहना है कि यदि ऐसा हुआ तो मप्र में फिर से भाजपा की सरकार बनेगी। शिवराज विरोधी वोट कांग्रेस को नहीं मिलेंगे। 

क्यों आयोजित किया गया सर्वे
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने नर्मदा परिक्रमा से पूर्व कई बार दोहराया था कि वो मप्र की राजनीति में सक्रिय नहीं होंगे। टिकट वितरण एवं संगठन के चुनावों में भी हिस्सा नहीं लेंगे लेकिन नर्मदा परिक्रमा से लौटने के बाद उन्होंने बयान ​बदल दिया। दिग्विजय सिंह ने मप्र की राजनीति में सक्रिय होने की इच्छा जताई। उन्होंने जोड़ा कि वो मुख्यमंत्री बनना नहीं चाहते परंतु कांग्रेस को एकजुट करने का काम करेंगे। एक तरह से उन्होंने कहा कि वो किंगमेकर की भूमिका में आना चाहते हैं। मप्र की जनता में दिग्विजय सिंह यादें क्या अब भी जाता हैं। क्या नर्मदा परिक्रमा के बाद लोगों का दिग्विजयसिंह के बारे में विचार बदल गए हैं। क्या मप्र की जनता में दिग्विजय सिंह के प्रति सहानुभूति है ? ऐसे तमाम सवालों के चलते सर्वे का आयोजन किया गया। 

क्या सर्वे पर भरोसा कर लिया जाए
हम दोहराना चाहते हैं कि यह आॅनलाइन सर्वे था। एक व्यक्ति एक ही वोट डाल सकता था। यह एक रेंडम सर्वे था जो मात्र 24 घंटे के लिए आयोजित किया गया। इसके लिए फेसबुक की तकनीकी सहायता ली गई जिसका सर्वर भारत में नहीं है। अत: किसी भी तरह की मिलावट की कोई संभावना ही नहीं है। 

क्या नतीजे आए
यह रेंडम सर्वे मप्र के 30442 लोगों तक पहुंचा। करीब 250 लोगों ने इसे जनता के बीच पहुंचाने का काम किया। करीब 1800 लोगों ने इसमें वोटिंग की। 602 लोगों ने दिग्विजय सिंह को मप्र की सक्रिय राजनीति में कांग्रेस के लिए फायदेमंद बताया जबकि 66% लोगों ने दिग्विजय सिंह को कांग्रेस के लिए नुक्सानदायक बताया। 

कुछ महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाएं: 
कुल 324 प्रतिक्रियाएं प्राप्त हुईं। इनमें से कुछ महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाएं जिन्हे पब्लिक ने पसंद किया, इस प्रकार हैं: 
Neetesh Mishra: 
ये मणिशंकर अय्यर का रोल निभएंगे मप्र में। जब जनता सिंधिया जी को चाह रही है तो फिर ये क्यों अपनी खिचड़ी अलग से पका रहा है। 
Kishore Kumar Shrivastava: 
दिग्विजय सिंह और अजय सिंह ने तो कसम खाइ है कि वो कांग्रेस को पूरी तरह से खत्म कर देंगे। इनके एक विधायक श्री राकेश चौधरी जी ने एक बार इंटरव्यू मे ये बात बोला था। वेसे भी दिग्गी राजा उल्टा सीधा बयान देने मे माहिर तो हैं। ज़िसका खामियाजा कांग्रेस को भुगतना ही पड़ेगा। दिग्गी राजा का पुराना शासन काल आज तक लोगो को याद है।
Amitesh Babu Lal Panchal
बहुत ज्यादा नुकसान होगा क्योंकि जनता को 15 साल पहले के वो दिन बहुत अच्छे से याद है।ओर यहाँ तक कि कांग्रेस कभी भी सरकार नही बना पाएगी। 

Anand Sharma: 
यह वही दिग्विजय सिंह है जिनकी वजह से मध्यप्रदेश सालों तक बिजली, पानी, सड़कें ओर रोजगार के लिए तरसा था और मध्यप्रदेश को इतना पीछे लाक़े खड़ा कर दिया था। सालों लग गए हमे आगे आने में। तुम्हें हम कभी माफ नही करंगे।
Kartik Pathak
जिस तरह से कांग्रेस आजकल अपना चरित्र और चेहरा प्रदर्शित कर रही है (दिल्ली सहित विभिन्न राज्यों से) ; लगता नहीं.. कि आसानी से ये पार्टी लोगों के दिल में अपनी जगह बना सकेगी | चेहरा कोई भी हो.... फिर भी ; दिग्विजय सिंह की सक्रियता सत्यानाश करने में दोगुना रफ्तार से मदद करेगी | दिग्गी सहित कांग्रेस ने बादाम खाया होगा.. लेकिन जनता ने ठोकर खाकर दिमाग तेज़ किया है। 

Godhan Singh Choudhary
कांग्रेस को डुबाने में इसका बहुत बड़ा योगदान है इसको mp से दूर रखो क्यो की कर्मचारी बहुत परेशान थे DA ऐसा बढ़ाता जैसे जेब से दे रहा है 1% इस साल 2% अगले साल। mp में कांग्रेस को खत्म करने में इनका बड़ा योगदान है। किसान को देने को बिजली नही थी, सड़क नही थी, कर्मचारीयों को देने के लिये DA नही था। 
Arvind Raghuvanshi 
जनता इनका SC/ST प्रेम अभी भूली नहीं है। भाजपा चुनाव के पहेली सिर्फ इन्हीं का नाम उछाल कर चुनाव जीत जाती है। उसने राज्य में ऐसा कोई काम नहीं किया जिससे जनता उसे वोट दे SC/ST के झूठे प्रकरणों मैं कौन जेल जाना पसंद करेगा। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week