10वीं के लिए एप्टीट्यूड टेस्ट की डेट एवं गाइडलाइन | MP EDUCATION NEWS

Monday, April 9, 2018

भोपाल। मध्यप्रदेश की शासकीय शालाओं में कक्षा 10वीं में अध्ययनरत समस्त विद्यार्थियों का अभिरूचि परीक्षण (इन्ट्रेस्ट टेस्ट) फरवरी 2018 में आयोजित किया जा चुका है। इस टेस्ट का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों की रूचियों की पहचान करना था। द्वितीय चरण में क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) दिनांक 9-21 अप्रैल 2018 को आयोजित किया जायेगा। परीक्षण हेतु संचालनालय के संदर्भित पत्र में दिये गये निर्देषों के अनुसार सभी जिलों में 28-30 मार्च 2018 को प्राचार्यों की बैठक में क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) से संबंधित प्रशिक्षण दिया जा चुका है। दिनांक 9-21 अप्रैल 2018 को आयोजित क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) में प्राचार्यों द्वारा निम्नलिखित कार्यवाही सुनिश्चित की जाये:-  

1: एमपी केरियर मित्र’’पोर्टल एवं मोबाईल एप प्रारंभ हो चुका है पोर्टल में लॉगिन करके समस्त बच्चों के अभिरूचि परीक्षण रिपोर्ट को डाउनलोड करके प्रिंट करें तदोपरांत दिनांक 9-21 अप्रैल 2018 को आयोजित क्षमता परीक्षण के दौरान बच्चों को वितरित करें। 
2: सत्र 2017-18 में कक्षा 10वीं की परीक्षा दे चुके विद्यार्थी जिन्होंने फरवरी माह में अभिरूचि परीक्षण दिया है उन विद्यार्थियों का दिनांक 9-21 अप्रैल 2018 के मध्य क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) लिया जाये। 
3: परीक्षण हेतु प्रति 10 विद्यार्थी के मान से कम से कम एक मोबाइल उपलब्ध हो।
4: विद्यार्थी अधिक होने पर शिक्षकों के अतिरिक्त विद्यार्थियों से भी मोबाइल लाने हेतु कहा जा सकता है।
5: अभिरूचि परीक्षण में उपयोग किये गये पासवर्ड को क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) में उपयोग किया जाये। यदि पासवर्ड उपलब्ध नहीं है तो उसे विमर्श पोर्टल पर देखा जा सकता है। 

6: मोबाइल पर लॉग इन पूर्वानुसार संबंधित शिक्षक द्वारा ही किया जायेगा। किसी भी स्थिति में विद्यार्थी को पासवर्ड नहीं दिया जाए तथा मोबाइल पर पासवर्ड संबंधित शिक्षक द्वारा ही दर्ज किया जाए। 
7: उक्त कार्य हेतु प्राचार्य एवं शिक्षकों को विशेष प्रयास करना होंगे तथा कार्यालयीन अभिलेख में उपलब्ध विद्यार्थियों के मोबाईल नम्बर पर कॉल करके विद्यार्थियों को अभिरूचि परीक्षण की रिपोर्ट दी जावे तथा क्षमता परीक्षण (एप्टीट्यूड टेस्ट) देने के लिए कहा जाये। 

8: यह परीक्षण से विद्यार्थियों की पूर्व में जाहिर अभिरूचि को उस विषय में अध्ययन करने की क्षमता को प्रतिपादित करेगा। अतः इस परीक्षण को विद्यार्थियों के पास/फेल के रूप न लिया जाये तथा विद्यार्थियों को भी इस बात से अवगत कराया जाये कि वे अपनी ज्ञान एवं कौषल को प्रदर्शित करें, इस परीक्षण के आधार पर किसी भी प्रकार की पास/फेल वाला रिजल्ट नहीं आयेगा। इस परीक्षण में आने वाले प्रश्नों को इस प्रकार तैयार किया गया है कि प्रश्नों के सहीे/गलत उत्तर से विष्लेषण उपरांत यह निष्कर्ष निकाला जा सकेगा कि उच्च अध्ययन हेतु विद्यार्थी को किस क्षेत्र का चुनाव करना चाहिए।  

फरवरी माह में अभिरूचि परीक्षण में 95ः से अधिक विद्यार्थियों ने अभिरूचि परीक्षण दिया था उन बच्चों के एप्टीट्यूड टेस्ट के उपरांत ही विद्यार्थियों की उस विषय में उच्च अध्ययन की स्थिति प्रतिपादित होगी। अतः पूर्व की भांति इस बार भी पूर्ण मनोयोग एवं विशेष प्रयास से सभी विद्यार्थियों का परीक्षण पूर्ण करायें। 
नीरज दुबे
कमिश्नर 
लोक शिक्षण संचालनालय

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week