किसान ही मेरी जिन्दगी है, उनके लिए सबकुछ करूंगा: शिवराज सिंह | MP NEWS

Thursday, March 29, 2018

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मेरी तो जिन्दगी ही अन्नदाता किसान है। वो सुखी रहे इसके लिए मुझे जो भी करना पड़ेगा, अवश्य करूंगा। किसान के कल्याण में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। श्री चौहान आज भाजपा किसान मोर्चा द्वारा आयोजित होने वाले किसान सम्मान यात्रा के लिए लोकगीतों का लोकार्पण कर रहे थे। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा, जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री मनमोहन नागर, मोर्चा के प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री संदीप श्रीवास्तव, कार्यालय मंत्री श्री पदमसिंह ठाकुर सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि किसानों के परिश्रम और सरकार की नीतियों के कारण ही मध्यप्रदेश को पांचवी बार कृषि कर्मण पुरस्कार मिला है। आज प्रदेश में प्रगतिशील किसानों ने अलग ढंग की खेती अपनाई है और वे प्रधानमंत्री के उस सपने को पूरा करने की दिशा में प्राणपण से जुटें हुए हैं जिससे उनकी आय दोगुनी की जा सके। आज मध्यप्रदेश में एक-एक एकड़ में पांच-पांच लाख रूपए कमाने वाले किसान भी मौजूद है। यह हमारे लिए गौरव की बात है। इन प्रगतिशील किसानों से दूसरे किसान भाईयों को सीखना चाहिए। हम ऐसे किसानों को ब्रांड एंबेसडर बनाकर कृषि महोत्सव में बुलायेंगे और उनसे पूछेंगे कि खेती को उन्नत करने के लिए क्या-क्या उपाय किए जाए ?

श्री चौहान ने कहा कि किसान को किसी भी कारण से कोई नुकसान होगा तो उसकी भरपाई सरकार करेगी। यह भाजपा की सरकार है जिसने तय किया है कि समर्थन मूल्य तो मिलेगा ही, साथ ही मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना के अंतर्गत पसीने की कीमत अलग से दी जायेगी। सरकार गेहूं 1735 रूपए प्रति क्विंटल खरीद रही है और 265 रूपए प्रति क्विंटल अलग से डाल दिया जायेगा। शरबती गेहूं पैदा करने वाले किसान भले ही कितने उंचे भाव में गेहंू बेंचे लेकिन उन्हें भी 265 रूपए प्रति क्विंटल अलग से दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि किसान को चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। ओला, पाला, इल्ली से होने वाले नुकसान पर भी 30 हजार रूपए हैक्टेयर दिया जायेगा और खरीफ 2017 की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की राशि संभावित 7 हजार करोड़ रूपए अलग से है। उन्होंने कहा कि चना, मसूर, सरसों पर भी समर्थन मूल्य से 100 रूपए प्रति क्विंटल सरकार अतिरिक्त दे रही है। पिछली साल जिन किसानों ने अपना गेहूं बेचा था उनको भी किसान सम्मान यात्रा समाप्त होते हुए 16 अप्रैल को गत वर्ष गेहूं खरीदी के 200 रूपए प्रति क्विंटल और 10 जून को इस वर्ष गेहूं खरीदी के 265 रूपए प्रति क्विंटल किसान के खाते में डाल दिया जायेगा।

उन्होंने किसानों से अपील की कि मंडी में खरीदी जारी है लेकिन एसएमएस मिलने पर ही वे अपना अनाज लेकर मंडी पहुंचे क्योंकि कुछ विघ्नसंतोषी लोग किसानों के हित में चलायी जा रही योजनाओं के विरोधी है इसलिए उनसे सावधान रहने की आवश्यकता है। सरकार व्यवस्थित रूप से सभी किसानों को लाभ देने के लिए प्रतिबद्ध है। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week