बेटे ने पिता की गर्दन काटी फिर फेवीक्विक से जोड़ने लगा | CRIME NEWS

Monday, February 26, 2018

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश के बस्ती जिले से पिता की जघन्य हत्याकांड का मामला सामने आया है। बेटे ने पहले अपने पिता की गर्दन काट दी और फिर उसे फेवीक्विक से जोड़ने लगा। काफी कोशिशों के बाद भी वो अपनी योजना में सफल नहीं हो पाया तो पिता को छोड़कर फरार हो गया। इस पूरी प्रक्रिया के अनुसार पिता में जान बाकी थी और वो दर्द से तड़प रहे थे परंतु उनकी चीखें कोई सुन ना ले इसलिए बेटे ने टीवी का वाल्यूम बढ़ा दिया था। 

यह घटना उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले की है। यहां सोनहा थानांतर्गत दरियापुर जंगल टोला के भैसहवा निवासी रामदेव मिश्र (65) का घर है। रामदेव रेलवे से सेवानिवृत हो चुके हैं। उनकी पत्नी की मौत हो चुकी है। वह यहां अपने बेटे जगदीश, बहू और दो पोते के साथ रहते हैं। शनिवार को रामदेव अपने घर में कमरे के अंदर लेटे हुए थे। जगदीश आया और उसने झटके में अपने पिता रामदेव की गर्दन काट डाली। वह साथ में फेवीक्विक भी लेकर आया था। उसने रामदेव की कटी गर्दन पर फेवीक्विक लगाकर उसे जोड़ने की कोशिश की। उस वक्त रामदेव दर्द से चीखने लगे तो बेरहम बेटे ने कमरे में टीवी की आवाज की और बढ़ा दी ताकि कोई चीख की आवाज सुन न ले। 

इस दौरान वह काफी देर तक फेवीक्विक से पिता की गर्दन जोड़ने का प्रयास करता रहा, लेकिन जब उसे लगा कि उनकी गर्दन नहीं जुड़ेगी तो वह उन्हें उसी अवस्था में छोड़कर भाग गया। इस दौरान उसने कमरा बाहर से बंद कर दिया। 

पड़ोसियों ने बुलाई पुलिस 
रामदेव की दर्द भरी आवाजें जब पड़ोसियों के कानों तक पहुंची तो उन्हें कुछ गड़बड़ लगा। वे मौके पर पहुंचे तो रामदेव खून से लथपथ जमीन पर पड़े थे। लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने रामदेव के बेटे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। वह अभी फरार है। रामदेव का इलाज अस्पताल में चल रहा है। 

पुलिस ने बताया कि जगदीश बेरोजगार है। उसने 2005 में उसकी पहली पत्नी की छत से धक्का देकर हत्या कर दी थी। उसे जेल भी हुई थी। जेल से छूटने के बाद उसकी दूसरी शादी हुई थी, जिससे उसे दो बच्चे हैं। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week

 
Copyright © 2015 Bhopal Samachar
Distributed By My Blogger Themes | Design By Herdiansyah Hamzah