मैक्स अस्पताल: डॉक्टरों के खिलाफ केजरीवाल के समर्थन में #Arvind_एक_क्रांति

Sunday, December 10, 2017

नई दिल्ली। जिंदा नवजात शिशु को मृत बताकर पॉलिथिन में पैक कर देने के मामले में मैक्स अस्पताल के खिलाफ हुई कार्रवाई के बाद एक तरफ दिल्ली के डॉक्टर संग़ठन लामबंद हो गए हैं। तो दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर अरविंद केजरीवाल को जबर्दस्त समर्थन मिल रहा है। केजरीवाल की इस कार्रवाई का ट्वीटर पर #Arvind_एक_क्रांति के साथ सराहा जा रहा है। यह हैशटेग ट्वीटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा है। साथ ही संदेश दिया जा रहा है कि वो इस तरह के हड़ताली डॉक्टरों से कतई ना डरें। 

दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन खुलकर मैक्स अस्पताल के समर्थन में उतर गया है। उसने रद्द लाइसेंस को बहाल करने की मांग की है और ऐसा न करने पर हड़ताल की चेतावनी दी है।  हालांकि इस मुद्दे पर उनकी आपस में भी ठन गई है, और कुछ डॉक्टरों ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के इस फैसले को गलत बताया है। 

मेडिकल व्यवस्था को ठप करने की धमकी
लेकिन डीएमए के अध्यक्ष डॉक्टर विजय मल्होत्रा ने कहा है कि अगर अस्पताल के लाइसेंस रद्द को वापिस नहीं किया जाता है, तो हम पूरी दिल्ली की मेडिकल व्यवस्था को ठप कर देंगे। आने वाले सोमवार या मंगलवार से दिल्ली में पूरी तरह मेडिकल व्यवस्था ठप कर दी जाएगी। डॉक्टर्स इस माहौल में घुटा हुआ महसूस कर रहे हैं। डॉक्टर्स के किसी भी इंसिडेंट को बहुत बड़ा बना दिया जा रहा है। डॉक्टर ने मर्डर कर दिया, ऐसे बयान देना बंद करें। उस बच्चे का जिंदा रहना बहुत मुश्किल था।

सरकारी अस्पतालों में इंफ्रास्ट्रक्चर कमजोर
उन्होंने कहा कि मैक्स अस्पताल में क्या सिर्फ 2 ही डॉक्टर काम करते थे। सरकार ने पॉपुलिस्ट स्टेटमेंट के चलते 1000 परिवारों को भूखा मरने पर मजबूर कर दिया। सरकारी अस्पताल में इतना इंफ्रास्ट्रक्चर कमजोर है कि 6-6 महीने तक डेट नहीं मिलती है। हम सरकार के लाइसेंस रद्द के कदम का पुरजोर विरोध करते हैं।

डॉक्टर बंटे दो गुटों में
इधर कुछ स्वतंत्र डॉक्टर्स डीएमए के हड़ताल वाले फैसले का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि डीएमए डॉक्टर्स के हितों की रक्षा करने वाला संगठन है। वो इस तरह के महंगे और कार्पोरेट अस्पतालों के लिए आंदोलित क्यों हो रहा है। कुछ डॉक्टरों का कहना है कि वो इस प्रस्तावित हड़ताल में शामिल नहीं होंगे। 

सोशल मीडिया पर केरजीवाल का समर्थन
ट्वीटर पर #Arvind_एक_क्रांति के साथ केंपन चल रहा है। 5000 से ज्यादा लोगों ने इस पर पोस्ट किए हैं। उनका कहना है कि अरविंद केजरीवाल का कदम पूरी तरह से सही है। जिन अस्पतालों में महंगा इलाज होता है वहां इस तरह की लापरवाही बर्दास्त नहीं की जा सकती। जिस बच्चे को भगवान ने जिंदा रखा है, डॉक्टर उसे मृत कैसे घोषित कर सकते हैं। लोगों ने डीएमए के अध्यक्ष डॉक्टर विजय मल्होत्रा के उस बयान की भी निंदा की है जिसमें उन्होंने कहा है कि वो बच्चा कभी नार्मल नहीं रह पाएगा। लोगों का कहना है कि डॉक्टर खुद को भगवान से भी बड़ा मानने लगे हैं। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week