सेल्स गर्ल से गैंगरेप: पुलिस की संवेदनशीलता से हुआ खुलासा | CRIME NEWS

Monday, December 18, 2017

भोपाल। बलात्कार के मामलों में जहां कुछ पुलिस अधिकारियों पर मामले को दबाने या दर्ज करने में लापरवाही बरतने के आरोप सामने आते हैं वहीं एक ऐसा मामला भी सामने आ रहा है जहां टीआई की संवेदनशीलता और सूझबूझ के कारण सामूहिक दुष्कर्म के मामले का खुलासा हो सका। मामला उज्जैन जिले के नागदा थाने का है। जहां टीआई अजय वर्मा ने बड़ी ही संवेदनशीलता के साथ इस मामले का तब खुलासा किया जबकि पीड़िता डरी हुई थी और मामले को छुपा रही थी। 

सीएसपी मानसिंह परमार ने बताया कि सेल्स गर्ल शनिवार रात 9 बजे काम कर घर लौट रही थी। तभी इंद्रा चौक क्षेत्र में सुनसान रास्ते पर उसे अकेली देख दो युवक पास की गली में ले गए और उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता के विरोध करने पर युवकों ने उसका मुंह दबा दिया और जमकर मारपीट भी की। वह इन दोनों युवकों को नहीं जानती थी। वारदात के बाद लहुलुहान हालत में मंडी थाने पहुंचकर पीड़िता ने केवल मारपीट होने की बात कही। वो अपने साथ हुए दुष्कर्म की बात को छुपा रही थी। बहुत डरी हुई थी। 

उसकी बात सुनकर टीआई अजय वर्मा ने महिला आरक्षक के साथ अस्पताल भेजा। साथ ही डॉक्टर को पर्सनली फोन करके कहा कि वो पीड़िता को भरोसे में लेकर पूरी बात पता करे। डॉक्टर और महिला आरक्षक द्वारा विश्वास में लेने पर पीड़िता ने पूरी कहानी सुनाई। इस दौरान उसने आरोपियों का हुलिया बताया और कहा कि आरोपियों में एक का नाम धर्मेंद्र था क्योंकि दूसरा आरोपी उसे इसी नाम से बुला रहा था।

इस तरह ढूंढ निकाला आरोपी
धर्मेंद्र नाम का पता लगने के बाद पुलिस ने इस नाम के 24 लोगों से पूछताछ की और पीड़िता को इन लड़कों को दिखाया। इस बीच सोशल मीडिया एकाउंटस भी खंगाले और साइबर सेल से भी मदद ली। मशक्कत के बाद पुलिस को प्रकाश नगर गली नंबर 4 में रहने वाले धर्मेंद्र की जानकारी मिली। पुलिस ने उसे उठाया तो उसके मुंह पर काटने का निशान मिला। थाने लाकर पूछताछ में धर्मेंद्र ने बलात्कार करना स्वीकार किया और साथी का नाम प्रवीण निवासी दयानंद कॉलोनी बताया।

भाई के साथ करते हैं केटरिंग का काम 
पूछताछ में पता चला है कि दोनों आरोपी पीड़िता के चचेरे भाई के साथ केटरिंग का काम करते हैं। इस बात का जिक्र आरोपियों ने पीड़िता को अगुवा करते वक्त भी कही थी। इसके बाद पुलिस को लग रहा है कि संभवत: यह वारदात अचानक न होकर सोची समझकर अंजाम दी गई है। अब तक हुई पड़ताल में पता लगा है कि आरोपी प्रवीण के खिलाफ चोरी सहित अन्य मामले दर्ज हैं। वह 5 वर्ष पूर्व भी छेड़छाड़ के मामले में आरोपी रह चुका है। दोनों नशे के आदी हैं। पूछताछ में आरोपी धर्मेंद्र ने बताया कि कुछ ही देर में महाराष्ट्र भागने की तैयारी कर रहा था।

इनकी रही भूमिका 
टीआई अजय वर्मा, एसआई अविनाशसिंह राठौड़, सुरेश कलेश सहित आरक्षकों की टीम ने अलसुबह 4 बजे तक मशक्कत कर आरोपियों को धरदबोचा।

इनाम की अनुशंसा
पुलिस की सक्रियता के कारण सही घटना का पता लगा है। आरोपी भी जल्द पकड़े गए। संबंधित पुलिसकर्मियों को नकद पुलिस दिलवाने के लिए एसपी को अनुशंसा की जाएगी। दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 363, 376 सहित मारपीट की धाराओं मेंप्रकरण दर्ज किया है। 
मानसिंह परमार, सीएसपी, नागदा

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week