फिर से बांस के डंडे खरीद रही है MP POLICE

Friday, September 1, 2017

भोपाल। बदमाशों को डराने के लिए फायबर के डंडे इस्तेमाल करने वाली मप्र पुलिस अब फिर से पुराने ढर्रे पर लौट रही है। अधिकारियों ने तय किया है ​कि सिपाहियों के हाथ में अब फायबर के डंडे नहीं बल्कि बांस के डंडे होंगे जैसे कि पहले हुआ करते थे। बता दें कि लाठीचार्ज के दौरान बांस के डंडों से लोग घायल हो जाते थे, इसलिए पुलिस ने फायबर के डंडों का इस्तेमाल शुरू किया था। इससे चोट तो लगती थी परंतु वो गंभीर नहीं होती थी। पुलिस मुख्यालय बड़ी संख्या में बांस डंडे खरीद रहा है। 

जानकारी के अनुसार पुलिस मुख्यालय को फायबर के डंडों को लेकर लगातार शिकायत मिल रही थी। मुख्यालय ने जिला पुलिस से फायबर डंडों को लेकर रिपोर्ट मांगी थी। साथ ही तमाम पुलिस अधिकारियों के साथ इस मामले को लेकर कई बैठकें भी की गई। हाल ही में हुई एक रिव्यू मीटिंग में फायबर के डंडे को बांस के डंडे की तुलना में कमजोर बताया गया। पुलिस की रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि फायबर के डंडे दो से तीन महीने के अंदर टूट जाते हैं। यह डंडा भीड़ को खदेड़ने में भी प्रभावी नहीं रहता है। बदमाशों में भी इस डंडे से पिटाई का खौफ कम रहता हैै। साथ ही इस डंडे की मार भी तेज नहीं लगती है। इस रिपोर्ट के बाद पुलिस मुख्यालय ने तय किया है कि फायबर के डंडे को बदला जाएगा।

जिलों से आई रिपोर्ट के बाद पुलिस मुख्यालय ने फायबर के डंडों की जगह अब पचास हजार बांस के डंडे जवानों को देने के प्रस्ताव को हरी झंडी दी है। अब जल्द ही पुलिस जवानों को नए डंडे मिलेंगे। एक दो महीने में बांस के डंडों की खरीदी कर ली जाएगी। गौरतलब है कि प्रदेश में पुलिस आधुनिकीकरण के चलते करीब दस साल पहले फायबर के डंडे आए थे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week