इंदौर का मुर्गे लड़ाने वाला सुपारी किलर निकला, पूर्वमंत्री के बेटे पर चलाई थी गोली

Wednesday, August 2, 2017

इन्दौर। आंध्रप्रदेश में तेलंगाना युवक कांग्रेस के नेता और आंध्र प्रदेश के पूर्व मंत्री मुकेश गौड़ के बेटे विक्रम गौड पर हुई फायरिंग के मामले का खुलासा हो गया है। मप्र के इंदौर में मुर्गों की लड़ाई कराने वाले रईस खान को हैदराबाद पुलिस ने गिरफ्तार किया है। चौंकाने वाला खुलासा तो यह है कि विक्रम गौड़ पर फायरिंग की प्लानिंग खुद विक्रम गौड़ ने ही की थी। इसके लिए उसने मप्र के सुपारी किलर रईस खान को हायर किया था। बताया गया है कि पुलिस ने विक्रम गौड़ के खिलाफ अपने ऊपर फायरिंग करवाने का षडयंत्र रचने का मामला दर्ज कर लिया गया है। 

इंदौर के पुलिस उप महानिरीक्षक हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कि कमिशनर टास्क फोर्स हैदराबाद (तेलंगाना) द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि थाना बंजारा हिल्स, हैदराबाद सिटी के किसी अपराध में फरार आरोपी रईस कबूतर खाना इंदौर का निवासी है। पता चला कि रईस खान यहां कुश्ती लड़ने वाले मुर्गों की खरीद बिक्री का काम करता था लेकिन इसके पीछे वो सुपारी किलर भी था। उसके खिलाफ थाना बंजारा हिल्स हैदराबाद सिटी में अप. क्रमांक 707/17 धारा 307 भादवि, 25 ,27 आर्म्स एक्ट पर पंजीबद्ध किया गया था। क्राईम ब्रांच इंदौर की टीम द्वारा उक्त अपराध में फरार आरोपी रईस को मय सुपारी के लिए एडवांस मे लिए 150000 रूपये के साथ पकडकर हैदराबाद टास्क फोर्स की टीम के सुपुर्द किया गया।

इधर hindi.sakshi.com ने खुलासा किया है कि यह सारा खेल विक्रम गौड ने ही प्लान किया था। सूत्रों के मुताबिक विक्रम के करीबी नंदू नामक व्यक्ति इस प्लान का मुख्य सूत्रधार था। अब
इस मामले में पुलिस ने विक्रम गौड़ को मुख्य आरोपी बना लिया है। 

विक्रम ने क्यों प्लान किया
अपने पर किसी के पिस्तौल से गोली चलाकर हत्या की कोशिश करने पर...सहानुभूति से परिवार के करीब जाने और कुछ महीने तक फायनान्सरों से राहत मिलने के इरादे से विक्रम गौड़ ने यह प्लान बनाया था। उन्होंने प्लान को अंजाम देने की जिम्मेदारी अपने करीब रहने वाले नंदू नामक व्यक्ति को सौंपी थी। इस काम के लिये शुरू में लोकल शूटरों की तलाश की गयी, लेकिन उन्हों कोई प्रोफेशनल शूटर नहीं मिला। अंत में नंदू ने अपने पुराने परिचय के माध्यम से अनंतपुर के एक गिरोह से संपर्क साधा और उसके साथ विक्रम गौड़ को किसी तरह की प्राणहानि हुए बिना गोली चलाने का समझोता किया। इस ऑपरेशन को अंजाम देने के लिये अनंतपुर गिरोह ने मध्य प्रदेश के इंदौर के शूटरों को मैदान में उतारा।

अंतिम मिनट में बदला प्लान
पूर्व योजना के मुताबिक विक्रम पर गोली उनके घर से बाहर चलानी थी और इसके लिये हमलावर रेकी तक कर चुके थे। परंतु सार्वजनिक क्षेत्र या रोड पर प्लान को अंजाम देने से सीसीटीवी कैमरों के अलावा सबूत पुलिस के हाथ लगने की आशंका को देखते हुए विक्रम पर गोली उनके घर पर चलाने का फैसला किया। देर रात 2 बजे के बाद सड़क पर लोगों की आवाजाही कम होने के कारण उसी वक्त प्लान को अंजाम देने का निर्णय लिया। इस बीच, विक्रम गौड़ ने अपने घर में लगे सभी सीसी कैमरे हटा दिये थे। बताया जाता है कि हमलावरों के लिये वाहन का इंतजाम नंदू ने करवाया था। यह भी खबर है कि गोली चलने से दो दिन पहले विक्रम ने शूटरों के साथ पार्टी की और इस दौरान विक्रम ने उन्हें दो से तीन राउंड गोली चलाने का निर्देश दिया था।

घटनास्थल की रेकी कर चुके हमलावर शुक्रवार सुबह अनंतपुर से हैदराबाद पहुंचे। नंदू द्वारा मुहैया कराये गये वाहन से विक्रम गौड़ के घर के पास पहुंचे। एक व्यक्ति घर के बाहर खड़ रह गया, जबकि दूसरा घर के भीतर जाकर विक्रम गौड़ पर एक राउंड गोली चलाई। विक्रम के कहने पर हमलावर दूसरी राउंड गोली चलाकर वहां से फरार हो गया।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week