सामान्य ज्ञान भाग 43 सुरक्षा परिषद (महत्वपूर्ण तथ्य) - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

सामान्य ज्ञान भाग 43 सुरक्षा परिषद (महत्वपूर्ण तथ्य)

Tuesday, September 6, 2016

;
सबसे बडा न्यूज पोर्टल भोपाल समाचार डॉट कॉम अपने नियमित पाठको के विशेष आग्रह पर गत वर्ष से लगातार सप्ताह में एक दिन इतिहास सें संबंधित सामान्य जानकारी प्रकाशित की जा रही है। इसमें और क्या परिवर्तन किया जाये। पाठकगण अपने सुझाव विचार भोपाल समाचार की ईमेल पर भेज सकते है।

1-यह संयुक्त राष्ट्र का मुख्य अंग है। और एक प्रकार से कार्यपालिका है।
2-संयुक्त राष्ट्र घोषण पत्र के अनुसार अन्तर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बनाए रखना सुरक्षा परिषद् की मुख्य जिम्मेवारी है। इसी कारणवश एक मुहावरे के रूप में इसे दुनिया का पुलिसमैन भी कहा जाता है।
3-इसमें 15 सदस्य होते है। जिनमें 5 स्थायी सदस्य और 10 अस्थायी सदस्य है।
4-स्थायी सदस्य 5 जिनमें अमेरिका,रूस,ब्रिटेन,फ्रांस,और चीन,।
5-अस्थायी सदस्यो का निर्वाचन महासभा अपने दो तिहाई बहुमत से दो बर्षो के लिये करती है।
6-सुरक्षा परिषद् के प्रत्येक सदस्य का एक वोट होता है।प्रक्रिया संबंधी मामलो में निर्णय के लिये। 15 में से 9 सदस्यो द्रारा सकारात्मक मतदान आवश्यक होता है। जिसमें पॉचो स्थायी सदस्य देशो का सकारात्मक मत आवश्यक होता है।
7-पॉचो स्थायी सदस्य देशो की सहमति को महान शक्तियो की आम सहमति और वीटो (निषेाधिकार) शक्ति के रूप में जाना जाता है।यदि कोई स्थायी सदस्य किसी निर्णय से सहमत नही है। तो वह नकारात्मक मतदान करके अपने वीटो के अधिकार का उपयोग कर सकता है। इस दशा में 15 में से 14 सदस्य देशो के समर्थन के बाबजूद प्रस्ताव स्वीकृत नही होता है।
8-यदि कोई स्थायी सदस्य किसी निर्णय का समर्थन नही करता और उस निर्णय को रोकना भी नही चाहता है। तो वह मतदान की प्रक्रिया दौरान अनुपस्थित रह सकता है।
9-सोवियंत संघ ने वीटो का उपयोग सबसे अधिक बार किया है।
10-अमेरिका ने वीटो का उपयोग सर्वप्रथम मार्च 1971 ई0 में रोडेशिया के प्रश्न पर किया था।
11-चीन ने सर्वप्रथम वीटो का प्रयोग अगस्त 1972 ई0 में बांग्लादेश के विश्व संस्था में प्रवेश के प्रश्न पर किया था।
12-सुरक्षा परिषद् अथवा यूनाइटेड नेशन का नाम अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति फै्रकलिन डी0 रूजबेल्ट द्रारा प्रदान किया गया।
13-संयुक्त राष्ट्र की रूपरेखा का निमार्ण करने के लिये। बडे राष्ट्रो के प्रतिनिधियो का सम्मेलन 21 अगस्त 1944 ई0को वांशिगटन के डम्बार्टन ऑक्स भवन में आयोजित किया गया जो 7 अक्टुबर 1944 ई0 तक चला।
तत्कालीन सोबियत रूस के क्रीमिया प्रदेश के याल्टा नगर में 4 फरवरी 1944 ई0 को ब्रिटिश प्रधानमंत्री चर्चिल, सोवियत  राष्ट्रपति  स्टालिन तथा अमेरिका  राष्ट्रपति रूजबेल्ट का एक शिखर सम्मेलन हुआ, जिसमें सुरक्षा परिषद् में मतदान प्रणाली पर निर्णय लिया गया।
14-संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 24 अक्टुबर 1945 ई0 को हुई।
15-संयुक्त राष्ट्र संघ के संस्थापक  सदस्य देशो की संख्या 51 थी। 26 जून 1945 ई0 को अधिकार पत्र पर केवल 50 राष्ट्रो के प्रतिनिधियो ने हस्ताक्षर किये। बाद में इस पर हस्ताक्षर कर पौलेंड 51 वॉ संस्थापक सदस्य देश बना था। वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र संघ के सदस्य देशो की संख्या 192 है। (192वॉ देश-मोंटेनेग्रो)
16- संयुक्त राष्ट्र संघ का मुख्यालय  न्यूयार्क शहर में स्थित है। इसका भवन 17 एकड जमीन पर 39 मंजिला का है। जो मैनहेटटन द्धीप में बना है।
17-यह 17 एकड भूमि जॉन डी रॉकफेलर ने दान में दी थी। इसी में इसका सचिवालय है।
18-संघ का मुख्य कार्यालय सन 1952 ई0में बनकर तैयार हुआ था।यहॉ इसकी महासभा की प्रथम बैठक अक्टुबर 1952 ई0में आयोजित की गयी।
19-संयुक्त राष्ट्र संघ के ध्वज की पृष्ठ भूमि हल्की नीली है। और उस पर श्वेत रंग से राष्ट्र संघ का प्रतीक बना है। यह प्रतीक है। दो जैतून की वक्राकार शाखाएॅ जो ऊपर से खुली हैं।और उनके बीच विश्व का मानचित्र बना है।
20-संयुक्त राष्ट्र संघ की भाषाएॅ कार्य करने वाली भाषा दो है। अंग्रेजी और फ्रेच। अन्य भाषाएॅ जिन्हे राष्ट्र संघ की मान्यता प्राप्त है। चीनी,रसियन,अरबी, तथा स्पेनिश 
21-संयुक्त राष्ट्र संघ का बजट  संयुक्त राष्ट्र घोषणा पत्र के अनुच्छेद 17 के अनुसार बजट पर विचार करने एवं उसे अनुमोदित करने की जिम्मेवारी महासभा की है। इसका नियमित बजट महासचिव द्रारा हर दूसरे बर्ष अनुमोदित किया जाता है।
22-बजट महाचचिव द्रारा पेश किया जाता है।
23-मई 2006 में संयुक्त राष्ट्र के बजट में प्रमुख देशो का अंशदान -सं0 रा0 अमेरिका 22 प्रतिशत जापान 19,47प्रतिशत जर्मनी 8,66प्रतिशत यू0 के06,13 प्रतिशत फ्रांस 6,03प्रतिशत इटली 4,89प्रतिशत कनाडा 2,81प्रतिशत रूस 1,10प्रतिशत तथा भारत 0,341प्रतिशत का योगदान करता है।
24-इसमें सभी सदस्य देशो के प्रतिनिधि सम्मिलित होते है। इसीलिये इसे विश्व की लघुसंसद भी कहा गया है।
25-प्रत्येक देश इसमें पॉच प्रतिनिधि भेज सकता है। परन्तु उसका वोट सिर्फ एक ही होता है।
26-महत्वपूर्ण प्रश्नो जैसे शांति एवं सुरक्षा से जुडे मुददे नए सदस्यो को प्रवेश और बजट निर्णय के लिये। दो तिहाई बहुमत की जरूरत होती है।
27-महासभ का नियमित सत्र हर साल सितंम्बर माह के तीसरे मंगलवार को शुरू होकर दिसम्वर के मध्य तक चलता है।
28-प्रत्येक नियमित सत्र की शुरूआत पर महासभा एक नए अध्यक्ष 21 उपाध्यक्ष और महासभा की सात मुख्य समितियो के अध्यक्षोका चुनाव करती है।
29-नियमित सत्र के अलावा महासभा की सुरक्षा परिषद् के आग्रह पर बिशेष सत्र आयोजित किये जा सकते है।
30-सुरक्षा परिषद् की संस्तुति पर अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय नये देशो को सदस्यता महाचचिव की नियुक्ति राष्ट्र संघ का बजट पारित करना आदि महासभा के कार्य हैं।    

;

No comments:

Popular News This Week