मप्र: पटरी पर दौड़ती 2 ट्रेनें बीच में से 2 टुकड़ा हो गईं - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

मप्र: पटरी पर दौड़ती 2 ट्रेनें बीच में से 2 टुकड़ा हो गईं

Sunday, August 28, 2016

;
जबलपुर। मप्र में पटरी पर दौड़ रहीं 2 ट्रेनें अलग अलग समय पर 2 टुकड़ों में बंट गईं। रत्नागिरी सुपरफास्ट ट्रेन की आधी बोगियां इंजन के साथ आगे बढ़ती रहीं, जबकि आधी बोगियां टूटकर अलग हो गईं और पटरी पर ही सरकती रह गईं। जबकि पटरी पर दौड़ रही कामायनी एक्सप्रेस का इंजन अचानक अपनी पूरी ट्रेन को छोड़कर अकेला ही निकल गया। वो भी एक बार नहीं बल्कि 2 बार। गनीमत रही कि ​कोई हादसा नहीं हुआ। 

पहली घटना शनिवार सुबह तकरीबन 3 बजे सतना से इलाहाबाद के बीच तेज रफ्तार में जा रही 12165 रत्नागिरी सुपरफास्ट ट्रेन मानिकपुर स्टेशन के पास दो हिस्सों में बंट गईं। ट्रेन का आधा हिस्सा तकरीबन 1 किमी आगे निकल गया। ट्रेन में सो रहे पैसेंजर को जोर का झटका गया, जिससे वे दहशत में आ गए। 

बोगियों को छोड़कर इंजन आगे निकल गया
दूसरी घटना सुबह तकरीबन 11 बजे कटनी से सतना के बीच 11071 कामायनी एक्सप्रेस के इंजन की कपलिंग टूट गई और पीछे लगे कोच पीछे छूट गए। एक नहीं बल्कि दो बार ऐसा हुआ। पहले भदनपुर के पास ट्रेन दो हिस्सों में बंट गई, फिर लगरगवां के पास। दोनों ट्रेन में हादसे की वजह कपलिंग टूटना बताया गया। घटना की सूचना लगते ही रेलवे अधिकारियों में हड़कंप मच गया। ड्राइवर को वापस बुलाकर फिर से इंजन को बोगियों से जोड़ा गया। तब जाकर ट्रेनें रवाना हुईं।

3 किमी आगे निकल गया इंजन
कामायनी एक्सप्रेस की भदनपुर के पास झुकेरी पुल के गुजरते वक्त उसकी कपलिंग टूट गई, जिस वजह से ट्रेन का इंजन के पीछे लगी बोगियों से अलग हो गया। इंजन तकरीबन 2 से 3 किमी आगे चला गया। पैसेंजर में अफरातफरी का माहौल मच गया।

1 ट्रेन में 2 बार हुई घटना 
भदनपुर से चलने के बाद जब कामायनी एक्सप्रेस ट्रेन मैहर सतना के बीच लगरगवां के पास पहुंची तो एक बार फिर कपलिंग टूट गई और इंजन बोगियों से अलग हो गया। हालांकि इस बार चालक ने तत्काल ट्रेन रोक दिया और फिर जोड़तोड़ कर किसी तरह ट्रेन को सतना तक लाया गया। जहां रेलवे के टेक्निकल विभाग ने आधे घंटे की मशक्कत के बाद कपलिंग जोड़ दिया। जिसके बाद कामायनी एक्सप्रेस वाराणसी के लिये रवाना हुई।

क्या है कपलिंग
दो कोच को जोड़ने के लिए कपलिंग लगाई जाती है
यह दो तरह की होती है, एक कसने वाली, दूसरी लॉक करने वाली
रत्नागिरी एक्सप्रेस में पुरानी कपलिंग लगी थी, जिसे कसना होता है
कामायनी एक्सप्रेस के नए इंजन में लॉक सिस्टम की कपलिंग थी
इसके लॉक किया जाता है, लेकिन इसका लॉक, बार-बार ओपन रहा था।
;

No comments:

Popular News This Week